आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

जन्मदिन विशेषः भारतीय क्रिकेट के जनक थे रणजीत

संतोष त्रिवेदी/इंटरनेट डेस्क

Updated Mon, 10 Sep 2012 05:38 PM IST
ranjit singh was father of indian cricket
भारतीय क्रिकेट के पितामह कहे जाने वाले जामनगर के महाराजा कुमार रणजीत सिंह की सोमवार को 140वीं जयंती है। भारत के पहले क्रिकेटर और इंग्लैंड की तरफ से टेस्ट मैच खेलने वाले रणजीत सिंहजी का जन्म 10 सितंबर 1872 को गुजरात में काठियावाड़ के सरोदर गांव में हुआ था। 16 साल की उम्र में पढ़ाई के लिए इंग्लैंड गए रणजी ने भारत में ही क्रिकेट का ककहरा सीखा था। इनको कैरियर के दौरान कुमार रणजीतसिंह, रणजी और स्मिथ के नाम से जाना जाता था।
विजडन ने माना लोहा
अपने छात्र जीवन में रणजी क्रिकेट के अलावा फुटबॉल और टेनिस भी खेलते थे, लेकिन क्रिकेट ने उनको विशेष पहचान दिलाई। क्रिकेट की बाइबल कही जाने वाली पत्रिका विजडन ने भी रणजी की प्रतिभा को लोहा मानते हुए उन्हें 1897 में क्रिकेट ऑफ द ईयर से सम्मानित किया था। क्रिकेट के जनक माने जाने वाले डब्ल्यूजी ग्रेस भी उनकी कलात्मक बल्लेबाजी से बेहद प्रभावित थे। उन्होंने कहा था कि दुनिया को अगले सौ साल तक रणजी जैसा बेहतरीन बल्लेबाज देखने को नहीं मिलेगा। भारत में उन्हीं के नाम से राष्ट्रीय क्रिकेट चैंपियनशिप आयोजित की गई जो आज भी रणजी ट्रॉफी के नाम से चल रही है।

निराली बल्लेबाजी के लिए मशहूर थे
रणजी को उनकी निराली बल्लेबाजी के लिए जाना जाता था। रणजीत सिंह ने अपनी कलाईयों की जादूगरी से इस खेल में लेग ग्लांस जैसे ऑन साइड के कई नए स्ट्रोक जोड़े थे। रणजी अपने जमाने के ऐसे बल्लेबाज थे जिनके पास कई तरह के स्ट्रोक की भरमार थी। इसका जिक्र रणजी के दोस्त सीबी फ्राई ने भी किया था।

फ्राई ने कहा था कि यदि कोई बल्लेबाज ऑन साइड पर ऐसे क्षेत्र में गेंद हिट करता था जहां के बारे में किसी ने सोचा भी नहीं हो तो वह गेंदबाज से माफी मांगता था। विरोधी टीम का कप्तान कभी उस क्षेत्र में क्षेत्ररक्षक नहीं लगाता था। वह अपेक्षा करता था आप भद्रजन की तरह ऑफ साइड पर ही स्ट्रोक खेलेंगे। रणजी ने हालांकि इस धारणा को बदलकर रख दिया था और अपनी कलाईयों के इस्तेमाल से ऑन साइड पर काफी रन बटोरे थे।

रणजी के इसी कौशल के कारण इंग्लैंड के चयनकर्ताओं को उन्हें अपनी टीम में शामिल करने के लिए मजबूर होना पड़ा। वह इंग्लैंड की टीम में शामिल होने वाले एशियाई मूल के पहले क्रिकेटर थे। रणजी ने भी चयनकर्ताओं को निराश नहीं किया और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जुलाई 1896 में मैनचेस्टर में खेले गए अपने पहले टेस्ट मैच में ही 62 और नाबाद 154 रन की दो लाजवाब पारियां खेली थी।

बाहर नहीं रखना चाहती थी टीम
1897 जब इंग्लैंड की टीम ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गई तो रणजी ने सिडनी में पहले टेस्ट मैच में 7वें नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतरकर 175 रन की बेहतरीन पारी खेली थी जिससे इंग्लैंड नौ विकेट से जीत दर्ज करने में सफल रहा था। रणजी इस मैच से पहले बीमार थे और वह कमजोरी महसूस कर रहे थे लेकिन इंग्लैंड की टीम उन्हें बाहर नहीं रखना चाहती थी।

विजडन ने उनकी इस पारी के बारे में लिखा था कि उनकी शारीरिक स्थिति को देखते हुए यह बल्लेबाजी का बेहतरीन नमूना था क्योंकि वह पहले दिन 39 रन बनाने के बाद बहुत कमज़ोरी महसूस कर रहे थे। दूसरे दिन सुबह का खेल शुरू होने से पहले तक डॉक्टर उनका इलाज कर रहा था।

सबसे सफल बल्लेबाजों में शुमार थे
रणजी इसके बाद टेस्ट मैचों में कभी शतक नहीं लगा पाए लेकिन ऑस्ट्रेलिया के इस दौरे में वे इंग्लैंड के सबसे सफल बल्लेबाजों में शामिल थे। उन्होंने तब 60.89 की औसत से 1157 रन बनाए थे। यही नहीं 1895 से लेकर लगातार दस सत्र तक रणजी ने 1000 से अधिक रन बनाए। इनमें 1899 और 1900 के सत्र में तो उन्होंने 3000 से अधिक रन ठोक दिए थे।

60 वर्ष की उम्र में जामनगर में हुआ निधन
रणजी ने अपने कैरियर में 15 टेस्ट मैच की 26 पारियों में 44.95 की औसत से 989 रन बनाए। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में उन्होंने 307 मैच खेले जिनमें 56.37 की औसत से 24,092 रन बनाए। इसमें 72 शतक और 109 अर्धशतक भी शामिल हैं। इस महान क्रिकेटर का 60 वर्ष की उम्र में 2 अप्रैल 1933 को जामनगर में निधन हुआ। उनके भतीजे दिलीप सिंह भी इंग्लैंड की तरफ से टेस्ट मैच खेले थे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

सिर जो तेरा चकराए तो...छुटकारा पाने के लिए कर लें ये उपाए

  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

करोड़ों की फीस लेने वाली दीपिका पादुकोण ने पहने ऐसे सैंडल, आप कभी नहीं पहनना चाहेंगे

  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

थायराइड की प्रॉब्लम दूर करती है गजब की ये मुद्रा

  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

50 वर्षों बाद बन रहा है ऐसा संयोग, जानें खरीदारी का सही समय

  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

एक साल में मोनालिसा की हुई कायाकल्प, तस्वीरें देख पहचान नहीं पाएंगे आप

  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

Most Read

फाइनल से पहले घायल हुई 'टीम इंडिया की शेरनी', कप्तान की बढ़ी चिंता 

Harmanpreet Kaur hurt her right shoulder during net practice ahead of women's  world cup final
  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

महिला वर्ल्ड कप: फाइनल में पहुंची टीम इंडिया, म्हारी छोरियां छोरों से कम हैं के

icc women's world cup 2017 india vs australia second semi final derby live
  • शुक्रवार, 21 जुलाई 2017
  • +

इंग्लैंड के खिलाफ फाइनल मुकाबले से पहले टीम इंडिया ने किया तेंदुलकर के साथ अभ्यास!

Sachin Tendulkar's son Arjun was in nets with India women team before final  
  • शनिवार, 22 जुलाई 2017
  • +

कपिल देव ने कहा, हरमनप्रीत की मुझसे तुलना गलत, उनकी पारी को सेलिब्रेट कीजिए

Kapil dev says Celebrate Harmanpreet Kaur, don’t compare her with me
  • रविवार, 23 जुलाई 2017
  • +

गेल का चैलेंज सनी लियोनी ने किया एक्सेप्ट, दर्ज कराई अपनी एंट्री...

sunny leone accepted west indian cricketer chris gayle's Challenge
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +

INDvAUS : अगर नहीं थमा बारिश का कहर तो फिर फाइनल में कौन पहुंचेगा?

india vs australia second semi final weather can spoil india's chances
  • गुरुवार, 20 जुलाई 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!