आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

मोबाइल है आदमी

प्रकाश पुरोहित

Updated Thu, 25 Oct 2012 09:07 PM IST
vyang of prakash purohit
आज हर कोई कान पर यों हाथ लगाए नजर आता है, जैसे जन्म के साथ ही कान को हाथ से जोड़ दिया गया हो। पहले तो लगता था कि आशिकबाजी का प्रसाद मिला है और गाल की ललाई छिपाई जा रही है। यह भी लगता रहा कि क्रिकेट की कमेंटरी आ रही होगी। और जो खेल से अनजान थे, वे समझते थे कि कव्वालों की सोहबत में उठ-बैठ रहा है। जितने दिमाग, उतनी आशंकाएं! मगर बाद में तो कोई पिटकर भी आ रहा हो, तो शंका का लाभ मिल जाता था कि मोबाइल सुन रहा होगा।
तब घरेलू फोन पर भी लोग सवार रहते थे, मगर यदा-कदा बाहर निकलते थे, तो अपनी विशुद्ध सिंगल काया के साथ भी पाए जाते थे। घर में होते थे, तो फोन देखकर ही समझ में आ जाता था कि चोंगा किन हाथों की वजह से क्रेडिल से दो फुट ऊपर हवा में तैर रहा है। बाहर भी रिसीवर को माइनस करने के बाद उन्हें पहचान लिया जाता था।

मगर यह मोबाइल सेवा उनके कान की तरह अब शरीर का हिस्सा हो गया है। पत्नी को चाय के लिए भी बोलना होता है, तो मोबाइल से लैंड लाइन पर लगाने में नहीं हिचकते हैं। सबसे मुश्किल पल वे होते हैं, जब मोबाइल ऐसे पड़ा रहता है, जैसे बच्चा मस्ती करने के बाद गहरी नींद में सो रहा हो। मगर उनसे मोबाइल की यह अदा देखी नहीं जाती। उन्हें हर पल लगता है कि अब रोया-तब रोया। हसरत भरी निगाह से यों देखते हैं मोबाइल को, जैसे तांत्रिक श्मशान में नरमुंड को देखता है।

आ क्यों नहीं रहा कोई फोन? नहीं आएगा, तो क्या मैं हाथ पर मोबाइल धरे बैठा रहूंगा? धिक्कार है ऐसे जीवन पर! लगा...उठ...हिम्मत कर... जो नंबर याद आए, उसे लगा ले। न हो, तो रांग नंबर ही लगा दे...और यह भी न कर सके, तो सौ नंबर लगा दे, रेलवे-बस पूछताछ, 197 कहीं तो लगा। तभी घंटी बजती है। लैंड लाइन की है। वह गुस्सा हो जाता है कि मोबाइल है, पता नहीं है क्या! सोचता है उठूं या बजने दूं लैंडलाइन फोन को! हेठी लगती है उसे।

गुलामी मानता है कि चलकर उस तक जाना होता है। न यह पता चलता है कि किसका फोन है और न नंबर देखकर काटने की सुविधा! डर यह भी है कि फोन उठाने गया और उधर कहीं मोबाइल बज गया तो! मन को समझाता है कि यह आवाज मिथ्या है, इसके बहकावे में मत आना! तभी लैंडलाइन फोन थक-हारकर चुप हो जाता है और मोबाइल बज उठता है ‘यार, फोन क्यों नहीं उठा रहा, घर पर नहीं है क्या?’

  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

लड़कियों की बस इसी बात पर मर मिटते हैं लड़के, आप भी जान लें

  • सोमवार, 21 अगस्त 2017
  • +

घर बैठे ही अब दूर होगी टैनिंग, एक बार तो जरूर ट्राई करें ये नुस्खा

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

इसे कहते हैं जुगाड़, ट्रैक्टर को ही बना डाला स्वीमिंग पूल, देखें वीडियो

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

खूबसूरत आंखों की अगर है ख्वाहिश तो अपनाएं ये टिप्स

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

B'day Spl: तो क्या इसी स्टाइल की वजह से रणदीप करते हैं लड़कियों के दिलों पर राज!

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

Most Read

गोरखपुर में जो हुआ

Gorakhpur tragedy
  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

मोदी से कैसे मुकाबला करेगा विपक्ष

How opposition counter Modi
  • शनिवार, 19 अगस्त 2017
  • +

स्त्री का प्रेम और पुरुष की उम्र

Woman's love and age of man
  • बुधवार, 16 अगस्त 2017
  • +

गांधी जैसा भारत चाहते थे

Gandi's Dream India
  • सोमवार, 14 अगस्त 2017
  • +

पाकिस्तान की सियासत में महिलाएं

Women in Pakistan's Politics
  • शुक्रवार, 18 अगस्त 2017
  • +

दोनों चुनाव एक साथ ?

Simultaneous elections
  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!