आपका शहर Close

आखिर यह जाति क्यों नहीं जाती

Yashwant Vyas

Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
अभी कुछ दिन पहले शाहजहांपुर के खुदागंज कसबे से आई वह खबर रोंगटे खड़े कर देने वाली थी, जिसमें मामूली विवाद के चलते एक व्यक्ति के नाखून उखाड़ दिए गए थे। बच-खुची कसर उसके मुंह पर पेशाब कर पूरी कर दी गई थी। मानवता को शर्मसार करने वाली यह पहली घटना नहीं है। न जाने कितने लोगों का इसी तरह से उत्पीड़न आज भी जारी है, उनमें से कुछ घटनाएं ही खबरों का हिस्सा बन पाती हैं। ऐसे ज्यादातर मामलों में पीड़ितों को सिर्फ इसलिए उत्पीड़ित किया जाता है, क्योंकि वे सामाजिक 'वर्णक्रम' में निचले स्तर पर हैं। उस पीड़ित व्यक्ति का अपराध भी सिर्फ यही था कि वह एक 'दलित' है। जिस देश में हर धर्म से ऊपर मानवता को स्वीकारने का दावा किया जाता है, उसी देश की न्याय व्यवस्था का परिहास उड़ाते हुए दलितों से उनके सांविधानिक अधिकार छीन लिए जाते हैं।
यों तो अनुसूचित जातियों और जनजातियों का आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक सशक्तीकरण केंद्र और राज्य सरकारों के विकास का एजेंडा रहा है, परंतु दुख की बात यह है कि जातिगत भेदभाव की चुभन देश की स्वतंत्रता के साढ़े छह दशक पूर्ण हो जाने के बाद भी कायम है। देश के ज्यादातर राज्यों की सरकारें अपने यहां अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारक अधिनियम, 1989 को प्रभावी ढंग से लागू नहीं करा पा रही हैं। यही कारण है कि दलितों पर अत्याचार अनवरत कायम हैं।

बीते दिनों राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष ने भी स्वीकार किया था कि गांवों में विभेद की रेखा गहराई से कायम है। दो वर्ष पूर्व सर्वोच्च न्यायालय की पीठ ने भी देश में जातिगत विभेद की पीड़ा पर प्रश्न करते हुए कहा था, 'कानून और लोकतंत्र की व्यवस्था सुचारू रूप से चलाने के लिए हमारे देश में जाति व्यवस्था को जल्दी खत्म किया जाना जरूरी है।'

जातिगत पीड़ा से इस देश को उबारने के लिए न जाने कितने संवेदनशील लोगों ने सपना देखा था। संविधान निर्माता डॉ भीमराव अंबेडकर ने जाति-व्यवस्था का उन्मूलन शीर्षक से एक पुस्तक लिखी थी। इस पुस्तक में उन्होंने जाति के उन्मूलन की कल्पना पूर्ण विश्वास के साथ की थी, परंतु जीवन के कटु अनुभवों के चलते उनका विश्वास छिन्न-भिन्न हो गया और अंततोगत्वा उन्होंने हिंदू धर्म त्याग कर बौद्ध धर्म अपनाने का निर्णय लिया।

अब प्रश्न यह उभरता है कि क्यों स्वयं को मानवाधिकार का पैरोकर मानने वाला देश, मानव और मानव के मध्य यों पीड़ाजनक अंतर करता है। इसका स्पष्ट कारण है, तथाकथित उच्च जाति के सबल व्यक्तियों द्वारा अहम के तुष्टीकरण के लिए उन व्यक्तियों का शोषण करना, जो उनकी दृष्टि से कमजोर हैं। सदियों से जातिगत विभेद के आधार पर अनुसूचित जाति के व्यक्तियों को ‘निम्न’ मानकर उन पर शासन करने की तुच्छ मानसिकता आज भी सामंती समाज छोड़ने को तैयार नहीं है।

ऐसे में यह मानसिकता खत्म हो, तो कैसे? निश्चित रूप से समाज की इस मानसिक विकृति को युवा पीढ़ी ही तोड़ सकती है। इसका जीवंत उदाहरण बिहार राज्य है, जिसे सभी दृष्टि से पिछड़ा माना जाता रहा है। वहां के मंदिरों और मठों में दलित पुजारियों की नियुक्ति व संगत और पंगत के मार्ग को अपनाकर सामाजिक समरसता का अनुपम प्रयास किया गया है। बिहार के लगभग सभी धार्मिक ट्रस्टों के सदस्य दलित हैं। देश के नीति-निर्धारकों को इस तथ्य पर भी विचार करना होगा कि सिर्फ आरक्षण और छात्रावासों से दलितों को वह अवसर प्राप्त नहीं होगा, जिनके वह हमेशा से अधिकारी रहे हैं।

जिन दलितों का स्वार्थ एवं दुर्भावनावश सामाजिक बहिष्कार एवं प्रताड़ित किया जाता है, अगर वे सभी अपने-अपने कामों का बहिष्कार कर दें, तो समाज की गति थम जाएगी। यह कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी संभालने वाले लोगों का उत्तरदायित्व बनता है कि वे देश के माथे पर लगे इस कलंक को धो दें कि यह देश ‘मानवीय गरिमा का परिहास’ करता है। माना कि उच्च-निम्न की सदियों की सड़ी गली विचारधारा को हटा पाना सहज नहीं है, परंतु यह काम असंभव भी नहीं है। यदि सामूहिक प्रयास किए जाएं, तो देश में 'एक समाज' की कल्पना आसानी से साकार हो सकती है।
Comments

Browse By Tags

स्पॉटलाइट

दिवाली की रात इन 5 जगहों पर जरूर जलाएं 1 दीपक, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

अयंगर योगः दिवाली पर करें यम-नियम और वीरासन के फायदों की बात

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

ब्यूटी प्रोडक्ट को छोड़कर ये 5 आसान योग करें, थम जाएगी आपकी उम्र

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

दिवाली की रात इन जगहों पर सजाएंगे दीये तो घर में होगी पैसों की बरसात

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

दिवाली पर 10 मिनट में बनाये स्वादिष्ट परवल की मिठाई, मेहमान भी कह उठेंगे 'YUMMY'

  • बुधवार, 18 अक्टूबर 2017
  • +

Most Read

रूढ़ियों को तोड़ने वाला फैसला

supreme court new decision
  • रविवार, 15 अक्टूबर 2017
  • +

सरकारी संवेदनहीनता की गाथा

Saga of government anesthesia
  • मंगलवार, 17 अक्टूबर 2017
  • +

भारत में समाजवाद

Socialism in india
  • गुरुवार, 12 अक्टूबर 2017
  • +

ग्रामीण विकास से मिटेगी भूख

Wiped hunger by Rural Development
  • सोमवार, 16 अक्टूबर 2017
  • +

उत्तर प्रदेश में क्या बदला?

What changed in Uttar Pradesh?
  • गुरुवार, 12 अक्टूबर 2017
  • +

नवाज के बाद मरियम पर शिकंजा

Screw on Mary after Nawaz
  • शुक्रवार, 13 अक्टूबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!