ऑफिस में लगातार 159 घंटे ओवरटाइम करने से चली गई जापानी रिपोर्टर की जान

Home›   Rest of World›   Reporter of Japan died after 159 hours of overtime

amarujala.com- Presented by: ऋतुराज त्रिपाठी

Reporter of Japan died after 159 hours of overtime

किसी भी क्षेत्र में सफलता पाने के लिए मेहनत बहुत जरूरी है। लेकिन जरूरत से ज्यादा मेहनत की जाये तो ये आपके मौत का कारण भी बन सकती है। जापान में एक रिपोर्टर की एक महीने में 159 घंटे अोवरटाइम करने से मौत हो गई। मौत का कारण हार्ट फेल होना बताया गया। पढ़ें:  जापानी मूल के ब्रिटिश लेखक काजुओ इशिगुरो को मिला साहित्य का नोबेल पुरस्कार NHK की 31 साल की रिपोर्टर मीवा साडो टोक्यो में राजनीतिक खबरों को कवर करती थीं। उनका शव जुलाई 2013 में उनके बिस्तर पर मोबाइल को हाथ में पकड़े हुए मिला था। उनकी मौत के एक साल बाद जापान की अथॉरिटी ने कहा कि उनकी मौत अधिक मात्रा में ओवरटाइम करने से हुई थी। उन्होंने महीने में केवल 2 दिन छुट्टी ली थीं और 159 घंटे ओवरटाइम किया था।   NHK ने साडो के माता-पिता के दवाब बढ़ने के 4 साल बाद मामले को सार्वजनिक किया,जिससे ये हादसा दोबारा न हो। यह मामला तब भी लोगों के सामने आया जब जापान में काम के दवाब की वजह से हुई मौतों की जानकारी दी गई।  पढ़ें: जापान के नियंत्रण वाले समुद्री इलाके में चीनी नौसेना ने लगाई गश्त, पूर्वी चीन सागर में बढ़ा तनाव NHK के चीफ ने काम करने की शर्तों पर दुख जताते हुए, समस्या का समाधान निकालने की बात कही। चीफ रायोची उएडा ने कहा कि हमें दुख है कि हमने अपनी होनहार रिपोर्टर को खो दिया, और उसकी मौत की वजह उसके काम से संबंधित है। हम उसके माता-पिता के साथ मिलकर इस दिशा में सुधार के लिए काम करेंगे।   
Share this article
Tags: japan , reporter ,

Most Popular

साथ सोने वाली बात पर सदमे में एक्ट्रेस, कहा- 'इस हद तक गिर जाएंगे नवाज, सोचा ना था'

बात-बात पर चप्पल से पीटने की धमकी देती हैं सपना चौधरी, इस बार तो पार कर दी हदें

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

चुंबन से चर्चा में आईं थीं मल्लिका, फिल्में छोड़ संभाल रहीं ब्वॉयफ्रेंड की अरबों की संपत्ति

60 फिल्मों में किया नारद मुनि का रोल, 24 भाई-बहनों में पला ये एक्टर खलनायक बनकर हुआ था पॉपुलर

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे