झोपाछाप के इंजेक्शन से सफाई कर्मी की मौत, हंगामा

Home›   Crime›   one died in rudrapur after geting injected

ब्यूरो/अमर उजाला ब्यूरो, ऊध्‍ाम‌‌‌सिंह नगर

one died in rudrapur after geting injectedPC: अमर उजाला

वार्ड नंबर सात में झोलाछाप के इंजेक्शन लगाने के बाद सफाई कर्मी की मौत हो गई। बवाल के अंदेशे से आरोपी क्लीनिक में ताला लगाकर फरार हो गया। वार्ड के लोगों ने उसकी क्लीनिक के आगे प्रदर्शन कर आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। रम्पुरा वार्ड नंबर सात निवासी धरमवीर (47) पुत्र बजरंगी लाल गदरपुर रोड स्थित एक पॉश कालोनी में सफाई का काम करता था। बृहस्पतिवार की सुबह वह काम पर जा रहा था। अचानक सीने में दर्द उठा और वह आधे रास्ते से ही घर लौट आया। वह मकान के बगल में क्लीनिक चलाने वाले हरीश के पास उपचार के लिए पहुंचा। बताया जा रहा कि हरीश ने धरमवीर को दो इंजेक्शन लगाए। इंजेक्शन लगाने के बाद धरमवीर को चक्कर आने लगा। कमरे में पहुंचते ही वह बेहोश हो गया। इससे घबराए परिजन उसे निजी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने धरमवीर को मृत घोषित कर दिया। इधर, धरमवीर की मौत की सूचना मिलते ही झोलाछाप हरीश क्लीनिक बंद कर फरार हो गया। घटना से आक्रोशित लोगों ने क्लीनिक का शटर उठाकर प्रदर्शन किया। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग और पुलिस से आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। घटना के बाद परिवार में कोहराम मचा है। मृतक के छोटे पुत्र सुरजीत ने बताया कि उनका परिवार यहां किराये पर मकान पर रहता है। इस संबंध में सीएमओ से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन संपर्क नहीं हो सका। क्लीनिक इस्टेबिलिशमेंट एक्ट के तहत सभी चिकित्सकों का पंजीकरण होना चाहिए। सीएमओ को इसके निर्देश दिए गए हैं। यदि चिकित्सक का पंजीकरण नहीं है तो पुलिस को उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए।  डॉ. एलएम उप्रेती, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य निदेशक, उत्तराखंड  खटीमा और नानकमत्ता में मिले थे 143 झोलाछाप रुद्रपुर। ऊधम नगर जिले में झोलाछाप डॉक्टरों पर स्वास्थ्य विभाग अंकुश नहीं लगा पा रहा है। पूरा जिला 56 सरकारी डॉक्टरों के भरोसे चल रहा है। करीब 147 चिकित्सकों के पद रिक्त हैं। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही से गली-गली में झोलाछाप धड़ल्ले से लोगों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। वर्ष-2015 में पुलिस की गोपनीय रिपोर्ट में खटीमा में 80 और नानकमत्ता में 63 झोलाछाप डॉक्टरों के अवैध तरीके से क्लीनिक खोलने का खुलासा हुआ था। इसकी रिपोर्ट तत्कालीन सीएमओ को भेजी गई थी। इसके बावजूद झोलाछाप डॉक्टरों पर कार्रवाई नहीं हुई। अब ऐसे डाक्टर गलत इलाज कर लोगों की जान ले रहे हैं। 
Share this article
Tags: death ,

Most Popular

हनीप्रीत को लेकर नई जानकारी आई सामने, राम रहीम के बारे में कह गई बड़ी बात

10 साल से एक हिट के लिए तरस रहे थे बॉबी देओल, सलमान खान ने खोल दी किस्मत

Dhanteras : भूलकर भी इस ‌दिन न खरीदें ये 4 चीजें, होता है अशुभ

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

बेटी के पिता हैं तो ये वाला बैंक अकाउंट खुलवा लें, करोड़पति बन सकते हैं

Dhanteras 2017: भूलकर भी न खरीदें ये 5 चीजें, मालामाल की जगह हो जाएंगे कंगाल