बोहरा दंपति की गिरफ्तारी पर तीन अक्तूबर तक रोक लगी

Home›   Crime›   बोहरा दंपति की गिरफ्तारी पर तीन अक्तूबर तक रोक लगी

Haldwani Bureau

लोहाघाट (चंपावत)। एक साथ दो पदों में रहने के मामले में आरोपी प्रीति बोहरा और उनके जिला पंचायत सदस्य पति पुष्कर सिंह बोहरा की गिरफ्तारी पर तीन अक्तूबर तक रोक लग गई है। ये दोनों आरोपी लंबे समय से फरार चल रहे थे। एक सितंबर को बोहरा दंपति के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ था। उल्लेखनीय है कि शासन के निर्देश के बाद डीएम डॉ.अहमद इकबाल ने चंपावत की एसडीएम सीमा विश्वकर्मा से मामले की जांच करवाई। जांच रिपोर्ट में चौडला ग्राम पंचायत में 2010 से 2015 के बीच आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व लोक साक्षरता केंद्र की प्रेरक पद पर प्रीति द्वारा एक साथ काम करने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद प्रभारी बाल विकास अधिकारी कमला मर्तोलिया ने 24 अगस्त को आरोपी महिला कर्मी प्रीति, तत्कालीन ग्राम प्रधान व मौजूद जिला पंचायत सदस्य पुष्कर सिंह बोहरा, प्रधानाध्यापक पीतांबर दत्त भट्ट, तत्कालीन बाल विकास परियोजना अधिकारी चंद्रा खड़ायत, तत्कालीन बाल विकास की मुख्य सेविका गीता राजपूत के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पंचेश्वर के कोतवाल डीएल वर्मा ने बताया कि सभी पांचों आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 467, 468 व 409 के तहत मुकदमा दर्ज है। एक सितंबर प्रीति बोहरा और पुष्कर सिंह बोहरा के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हुआ था उन्होंने बताया कि उच्च न्यायालय ने इनकी गिरफ्तारी के खिलाफ तीन अक्तूबर तक तक के लिए स्थगनादेश (स्टे) दिया है। उन्होंने बताया कि लंबे समय से फरार चल रहे बोहरा दंपति द्वारा गिरफ्तारी के खिलाफ उच्च न्यायालय का स्थगनादेश थाने में दे दिया है। तीन अक्तूबर के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

हर्षिता दहिया को पहले ही हो गया था मौत का अंदाजा, FB लाइव होकर किया था खुलासा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जानिए आखिरी FB लाइव में ऐसा क्या बोली थी हर्षिता दहिया, कुछ घंटे में हो गया मर्डर

पहली बार मिलने आई पत्नी से राम रहीम ने कही ऐसी बात, फूट-फूट कर रोई वो