वाचरों ने किया वनसंरक्षक का घेराव, ज्ञापन सौंपा

Home›   City & states›   वाचरों ने किया वनसंरक्षक का घेराव, ज्ञापन सौंपा

Bareily Bureau

पीलीभीत। वन विभाग एक ओर वन्यजीव सप्ताह मनाकर लोगों को वन एवं वन्यजीव के प्रति जागरूक कर रहा है वहीं दूसरी ओर उनकी सुरक्षा में लगे वाचरों को भूखे पेट काम करने को मजबूर हैं। 10 माह से वेतन न मिलने से परेशान वाचरों ने वन संरक्षक का घेराव कर का वेतन दिलाने की मांग की। पीलीभीत टाइगर रिजर्व में करीब 180 वाचर तैनात हैं। जंगल की सुरक्षा और जानकारी वाचरों पर ही निर्भर करती है। टाइगर रिजर्व बनने के बाद से यह उम्मीद जगी थी कि इनकी दशा में कुछ सुधार होगा लेकिन स्थिति और खराब हो रही है। जंगल के मुख्य अंग कहे जाने वाले वाचरों को 10 माह से वेतन नहीं मिला है। करीब तीन माह पूर्व भी वाचरों ने टाइगर रिजर्व मुख्यालय पर धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा था। इसके बाद भी वेतन अभी तक नहीं मिला जबकि करवाचौथ, दीपावली, भैयादूज जैसे त्यौहार सामने हैं। ऐसे में आर्थिक तंगी से गुजर रहे वाचरों को परेशान होना पड़ रहा है। बृहस्पतिवार को सभी रेंजों के वाचर टाइगर रिजर्व मुख्यालय पर एकत्र हुए। वाचरों ने गेट पर प्रदर्शन किया और वन संरक्षक वीके सिंह के पहुंचने पर उनका घेराव किया और कार्यालय में उन्हें ज्ञापन दिया। वाचरों ने चेतावनी दी कि यदि 10 अक्तूबर तक वेतन का भुगतान नहीं किया गया तो वह हड़ताल का टाइगर रिजर्व मुख्यालय पर ही अनिश्चित कालीन धरना प्रदर्शन करेंगे। वन संरक्षक ने उन्हें एक सप्ताह में भुगतान कराने का आश्वासन दिया है। घेराव कर ज्ञापन सौंपने वालों में जितेंद्रपाल सिंह, इंद्रपाल, रतनलाल, राजेश कुमार, गोविंद राम, बालकराम, ओमप्रकाश, हरीशंकर, प्रहलाद आदि थे। ---------
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे