नहर में मिले शव की ऊमरी फिरोजाबाद के अजय के रूप में हुई शिनाख्त

Home›   City & states›   नहर में मिले शव की ऊमरी फिरोजाबाद के अजय के रूप में हुई शिनाख्त

Kanpur Bureau

अमर उजाला ब्यूरोलवेदी। लवेदी थाना क्षेत्र के धर्मपुरा गांव में नहर पुल के नीचे एक युवक का शव मिला। बाद में शव की शिनाख्त परिजनों ने की। युवक फिरोजाबाद के सिरसागंज क्षेत्र के ऊमरी गांव का था। देवी मूर्ति विसर्जन के दौरान भोगनीपुर नहर में नहाते समय डूब गया था। उसके परिजन तभी से बराबर शव की खोजबीन में लगे थे। फिरोजाबाद के ऊमरी गांव निवासी सोनेलाल ने बताया कि उनका भतीजा 36 वर्षीय अजय कुमार कठेरिया पल्लेदारी करता था। दशहरा के दिन वह साइकिल पर अपने 10 वर्षीय बच्चे राजकुमार को बैठाकर गांव में रखी देवी की मूर्ति के विसर्जन कार्यक्रम में गया था। पड़ोस के गांव अमहौर स्थित भोगनीपुर नहर में विसर्जन करने के लिए जब मूर्ति का गांव में भ्रमण चल रहा था । वह साइकिल से बच्चे को लेकर अमहौर नहर पर पहले आ गया। बच्चे को अपने कपडे़ देकर वह नहाने लगा। नहाते समय अजय गहरे गड्डे में जाने से डूब गया। पिता को डूबता देख जब बच्चा चिल्लाया तो वहां कोई नहीं था। जब तक गांव के लोग आते तब तक शव आगे निकल चुका था। मायके वालों ने लवेदी के डबहा गांव में ब्याही लड़की को नहर में निगबानी के लिए सूचना दी। सोमवार सुबह करीब 8 बजे एक शव बहता हुआ देखा। परिजनों ने लवेदी पुलिस को सूचना दी। सूचना पर थानाध्यक्ष अनिल यादव, उपनिरीक्षक वीरेंद्र सिंह ने गंगादास गौतम के साथ पहुंचकर शव को निकलवाया तो लोगों ने हाथ पर लिखे अजय कुमार के रूप में पहचान की। ऊमरी गांव से आए ताऊ सोनेलाल, चचेरे भाई विकास, बहनोई रामश्याम, लाल सिंह के सामने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया।- नहर में मिले शव की हुई शिनाख्त - फिरोजाबाद के ऊमरी गांव का था युवक- मूर्ति विसर्जन के दौरान नहाते समय नहर में डूबने से हुई मौत
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे