निरीक्षण के दौरान बंद मिले आंगबनाड़ी केंद्र

Home›   City & states›   निरीक्षण के दौरान बंद मिले आंगबनाड़ी केंद्र

Varanasi Bureau

चंदौली। शासन के तमाम प्रयास के बावजूद आंगनबाड़ी केंद्रों के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। बुधवार को बाल विकास परियोजना अधिकारियों ने चहनियां, सकलडीहा और बरहनी ब्लाक स्थित एक दर्जन आंगनबाड़ी केंद्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान व्यापक पैमाने पर खामियां पकड़ में आईं। कहीं केंद्र बंद मिले तो कहीं बच्चों की संख्या नगण्य थी। सराय गांव स्थित केंद्र पर तो सड़क निर्माण कर रहे मजदूरों ने कब्जा जमा लिया है। जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास एसके राय ने बंद मिले केंद्रों के आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं का मानदेय रोकने के निर्देश दिए। सीडीपीओ चहनियां मीना गुप्ता ने आंगनबाड़ी केंद्र बलुआ, सराय और रौना का निरीक्षण किया। केंद्रों में बच्चों की संख्या कम थी। वहीं सराय केंद्र पर सड़क निर्माण कर रहे श्रमिकों ने कब्जा किया हुआ था। केंद्र के बच्चे बाहर बैठे हुए थे। सीडीपीओ ने तत्काल केंद्र खाली कराने का निर्देश कार्यकर्ता को दिया। सीडीपीओ बरहनी रामप्रकाश मौर्य ने खरखोली और काजीपुर स्थित केंद्रों का निरीक्षण किया। खरखोली और काजीपुर के एक-एक केंद्र बंद मिले। वहीं काजीपुर के दूसरे केंद्र पर एक भी बच्चा उपस्थित नहीं था। वहीं सीडीपीओ सकलडीहा ने तिमिलपुरा और सकलडीहा कस्बा स्थित पांच केंद्रों का निरीक्षण किया। इस दौरान तीन सहायिकाएं अनुपस्थित मिलीं। सीडीपीओ ने दो सहायिकाओं को कारण बताओ नोटिस जारी करने के साथ ही एक सहायिका की सेवा समाप्ति के लिए डीपीओ को आख्या प्रस्तुत की। इस बाबत जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि सीडीपीओ की आख्या पर सभी अनुपस्थित कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं का मानदेय रोकने की कार्रवाई की जाएगी।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

साथ सोने वाली बात पर सदमे में एक्ट्रेस, कहा- 'इस हद तक गिर जाएंगे नवाज, सोचा ना था'

बात-बात पर चप्पल से पीटने की धमकी देती हैं सपना चौधरी, इस बार तो पार कर दी हदें

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

चुंबन से चर्चा में आईं थीं मल्लिका, फिल्में छोड़ संभाल रहीं ब्वॉयफ्रेंड की अरबों की संपत्ति

60 फिल्मों में किया नारद मुनि का रोल, 24 भाई-बहनों में पला ये एक्टर खलनायक बनकर हुआ था पॉपुलर

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे