करोड़ों के गोलमाल में फंसे दो डीपीआरओ

Home›   Crime›   two dpro in problem of corruption

basti

बस्ती।  अन्त्येष्टि स्थल के निर्माण के मामले में जांच रिपोर्ट आने के बाद विकास भवन में हड़कंप है। दोषियों से धन की रिकवरी से लेकर विधिक कार्रवाई तक की तैयारी लगभग पूरी हो गई है। दो डीपीआरओ, जेई, पंचायत सेक्रेटरी और कई प्रधान इसकी चपेट में आ रहे हैं।  सीडीओ हर्षिता माथुर ने बुधवार को बताया कि भौतिक सत्यापन हो चुका है। अभिलेखीय सत्यापन कराया जा रहा है। दो दिन में कार्रवाई की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। सरकारी धन के इस गोलमाल में दोषियों पर कार्रवाई से पहले पूरी तैयारी की जा रही है। इस बात की छानबीन की जा रही है, किन परिस्थितियों में बिना पहली किस्त का सत्यापन कराए पंचायतों को दूसरी किस्त जारी की गई। कार्रवाई की चपेट में आ रहे कई प्रधानों ने बताया कि मनमाने तरीके से विभाग ने दूसरी किस्त जारी की, जिसमें नियमों का ध्यान नहीं रखा गया। कई ने भारी सुविधा शुल्क लेने की भी बता भी कही। हालांकि, इस आरोप को डीपीआरओ शिवशंकर सिंह ने गलत बताया और कहा कि धन लैप्स न हो इसलिए दूसरी किस्त जारी कर दी गई। सीडीओ का भी कहना है कि अगर दूसरी किस्त जारी करने से पहले पहली किस्त का सत्यापन विभाग करा लेता तो शायद अनियमितता नहीं होती।                    ब्लॉक की अनदेखी से हुई गड़बड़ी              कई बीडीओ का कहना है कि पंचायत विभाग ने इतने बड़े प्रोजेक्ट में बीडीओ को शामिल ही नहीं किया। किस स्थान पर स्थल का निर्माण होना है और कहां होना है, अगर इसका सत्यापन विभाग ब्लॉक से करा लेता जो सरकारी धन के दुरुपयोग होने से रोका जा सकता था। विभाग ने सीधे ग्राम पंचायतों के खाते में धन भेज दिया। अगर यही रकम क्षेत्र पंचायतों के जरिए जाती तो उस पर अंकुश लगाया जा सकता था।  नौ अफसरों पर होगी कार्रवाई बस्ती।  सोलर लाइट के भौतिक सत्यापन में लापरवाही बरतने वाले नौ अधिकारियों पर विभागीय कार्रवाई की तलवार लटक रही है। कई बार नोटिस देने के बाद भी अधिकारी न तो सत्यापन कर रहे हैं न ही रिपोर्ट दे रहे हैं। इसे सीडीओ हर्षिता माथुर ने अफसरों की लापरवाही और उदासीनता मानते हुए इनके विरुद्ध कार्रवाई करने का अंतिम नोटिस जारी करते हुए स्पष्टीकरण मांगा है।  जिले में समग्र ग्रामों में लगाई गई सोलर लाइट्स की शिकायतें शासन और प्रशासन को निरंतर मिल रही हैं। सोलर लाइट के न जलने और शिकायतों के बाद उसे ठीक न कराए जाने की शिकायतें मिल रही। इसे देखते हुए सोलर लाइट का भौतिक सत्यापन कराने के लिए अफसरों की टीम लगाई गई। जब अफसरों ने सत्यापन रिपोर्ट नहीं दिया तो उन्हें दो नोटिस दिया गया, उसके बाद भी रिपोर्ट नहीं दी गई। इससे नाराज सीडीओ ने बीएसए, उप कृषि निदेशक, परियोजना अभियंता पैक्सफेड, एक्सईएन विद्युत प्रथम, समाज कल्याण अधिकारी, जिला उद्यान अधिकारी, प्राचार्य डायट, डीआईओएस और सचिव मंडी को सत्यापन रिपोर्ट देने के लिए एक दिन का समय दिया, अन्यथा की स्थित में विभागीय कार्रवाई की संस्तुति करने को चेताया है।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

साथ सोने वाली बात पर सदमे में एक्ट्रेस, कहा- 'इस हद तक गिर जाएंगे नवाज, सोचा ना था'

बात-बात पर चप्पल से पीटने की धमकी देती हैं सपना चौधरी, इस बार तो पार कर दी हदें

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

चुंबन से चर्चा में आईं थीं मल्लिका, फिल्में छोड़ संभाल रहीं ब्वॉयफ्रेंड की अरबों की संपत्ति

60 फिल्मों में किया नारद मुनि का रोल, 24 भाई-बहनों में पला ये एक्टर खलनायक बनकर हुआ था पॉपुलर

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे