दोनों खेमों को जीत का पक्का भरोसा

Home›   City & states›   Confidence of victory for both camps

अमर उजाला ब्‍यूूराे

Confidence of victory for both campsPC: Amar Ujala

अरे यहां तो सभी मुतमईन हैं। अपने खेमे के सदस्यों के बल पर अपनी अपनी जीत के प्रति आश्वस्त हैं। बात हो रही है जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ छह अक्तूबर को होने वाली अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग की। करीब तीन-चार माह से एक दूसरे के खिलाफ शतरंजी बिसात बिछाकर शह और मात का खेल खेल रहे अध्यक्ष और उनके विरोधियों को अब वोटिंग का बेसब्री से इंतजार है। हालांकि भीतरघात का भय दोनों पक्षों को है, लेकिन कोई भी अपने को कमजोर मानने को तैयार नहीं है।  बुधवार को अध्यक्ष विरोधी खेमे के सदस्यों ने उज्जैन से व्हाट्स एप पर वरिष्ठ भाजपा नेता लालजी वर्मा के पुत्र एवं विरोधियों के अध्यक्ष पद के चेहरे नरेंद्र वर्मा के प्रति एकजुटता को प्रदर्शित करता फोटो डालकर अपने मजबूत इरादों को दर्शाते नजर आए। फोटो में करीब 24 सदस्य एक साथ नजर आए। जिला पंचायत सदस्य अजीत गौड़ ने बताया कि तीन और सदस्य उस समय साथ नहीं थे। लेकिन उनका समर्थन हमारे साथ है और अविश्वास प्रस्ताव के रण में हमारी जीत तय है। दूसरा पक्ष भी सत्ताधारी दल से संबंधित होने के कारण अपनी जीत तय मान रहा है। अब सभी को छह अक्तूबर को होने वाली जिला पंचायत बोर्ड बैठक में होने वाली वोटिंग का इंतजार है।  वार्ड 42 की सदस्य बबिता ने किया वोटिंग के बहिष्कार का एलान जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को लेकर होने वाली वोटिंग का जिला पंचायत के वार्ड 42 की सदस्य बबिता सिंह ने बहिष्कार का एलान किया है। बुधवार को मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम वित्त एवं राजस्व को सौंपते हुए अपने पति सुबोध सिंह के साथ पहुंची सदस्य बबिता ने कहा कि अध्यक्षों के चुनाव या अविश्वास प्रस्ताव की वोटिंग की वर्तमान व्यवस्था में सदस्य द्वारा वोट डाला जाता है। इसके कारण अध्यक्ष प्रत्याशी धनबल व बाहुबल का प्रयोग कर सदस्यों पर दबाव बनाते हैं। चुनाव जीतने के बाद खर्च निकालने के लिए सरकारी धन का दुरुपयोग किया जाता है। उन्होंने मुख्यमंत्री से मांग की कि वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष को बर्खास्त कर सीधे जनता से चुनाव कराया जाए। ऐसा न होने पर वह इस चुनावी प्रक्रिया में अपने मत का प्रयोग नहीं करेंगी।  प्रशासन की व्यवस्थाएं  - जिला पंचायत कार्यालय गेट के अंदर आने वाले व्यक्तियों की सघन तलाशी  - सदस्य, अधिकारी, कार्मिक परिचय पत्र दिखाकर ही कर सकेंगे अंदर प्रवेश  - महिलाओं की चेकिंग के लिए गेट के पास ही बनाया जाएगा अस्थाई कक्ष - मोबाइल, पेजर और इलेक्ट्रानिक डिवाइस रखने की अलग से व्यवस्था - मतदान स्थल पर प्रवेश द्वार से लेकर बैठक कक्ष तक सीसी कैमरे - बेरीकेडिंग होगी तो सदस्यों के लिए बनेगा वेटिंग रूम  सदस्यों के लिए जारी दिशा निर्देश  m मतदान के लिए सदस्यों को जिला पंचायत द्वारा जारी परिचय पत्र लाना होगा m इसके साथ ही सदस्यों को उनके निर्वाचन के समय दिया गया निर्वाचन प्रमाण पत्र भी साथ लाना होगा m सरकारी अथारिटी द्वारा जारी आधार कार्ड,  फोटोयुक्त पासपोर्ट आदि आईडी का साथ लाना भी आवश्यक  m साथ ही साथ पेजर, स्मार्ट वाच एवं अत्याधुनिक इलेक्ट्रानिक डिवाइस लाने पर भी रहेगा प्रतिबंध m मतदान के समय मोबाइल, धूम्रपान, माचिस, लाइटर, पटाखे एवं अस्त्र-शस्त्र परिसर में प्रतिबंधित  m कोई भी पंचायत सदस्य अपने साथ समर्थक या समर्थकों से भरे वाहन प्रतिबंधित क्षेत्र में नहीं लाएगा  
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

पार्टी में अमिताभ बच्चन की पोती से मिलीं रेखा, ऐश्वर्या ने कहा कुछ ऐसा जिससे बिग बी को होगा गर्व

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

26 अक्टूबर को शनि बदलेंगे अपनी चाल, 3 राशि से हटेंगी शनि की तिरछी नजर

हर्षिता दहिया का एक ऐसा राज सामने आया, जिसे शायद ही कोई जानता हो

हिमाचल विस चुनाव: जानिए किस विस क्षेत्र में किन धुरंधरों के बीच हो रही है चुनावी जंग