धूमधाम से निकाली गई महर्षि वाल्मीकि की शोभायात्रा

Home›   City & states›   धूमधाम से निकाली गई महर्षि वाल्मीकि की शोभायात्रा

Agra Bureau

धूमधाम से निकाली गई महर्षि वाल्मीकि की शोभायात्राPC: amar ujala

मैनपुरी/कुरावली। नगर में गुरुवार को महर्षि वाल्मीकि की जयंती धूमधाम से मनाई गई। इस दौरान वाल्मीकि समाज के लोगों ने शोभायात्रा निकाली। इसका शुभारंभ अनुसूचित जाति, जनजाति आयोग उत्तर प्रदेश के सदस्य गौरव दयाल वाल्मीकि और अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ के प्रदेशाध्यक्ष राजेश कुमार वाल्मीकि ने किया। शोभायात्रा में दर्जनों धार्मिक झांकियां व नगर के मशहूर बैंड के साथ आराध्य देव वाल्मीकि की प्रतिमा विशाल रथ पर सुशोभित थी। इसके आगे वाल्मीकि समाज के युवा व युवतियां नृत्य करती हुई महर्षि वाल्मीकि स्वामी का जयकारा लगा रहे थे। शोभायात्रा पूर्व विधायक स्वर्गीय रामेश्वर दयाल वाल्मीकि के निवास मोहल्ला दरीबा से शुरू हुई। शोभायात्रा का समाज के लोगों ने पुष्प वर्षा कर जगह-जगह स्वागत किया। यहां से यह संतोषी माता मंदिर आगरा रोड, करहल रोड, बड़ा चौराहा, सिटी पोस्ट आफिस, घंटा घर, मदार दरावाजा होते हुए देवी रोड स्थित महर्षि वाल्मीकि आश्रम पहुंचकर समाप्त हुई। वहां वाल्मीकि समाज के लोगों ने और संत महंतों ने महर्षि वाल्मीकि की पूजा की। इस अवसर पर वाल्मीकि मंदिर पर भंडारे का आयोजन किया गया। इसके बाद अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ के प्रदेश अध्यक्ष राजेश कुमार और महामंत्री राजू सेठ के तत्वावधान में आराध्य देव वाल्मीकि जयंती एवं शोभायात्रा में शामिल लोगों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर राजू वाल्मीकि, राजेंद्र कुमार वाल्मीकि, जयराज पाथरिया, सुदेश कुमार वाल्मीकि, रघुनाथ सिंह वाल्मीकि, विनोद कुमार वाल्मीकि, महेंद्र नागर, मंगलदास त्यागी, डीडी चौहान आदि रहे। वहीं, कुरावली में गुरुवार को महार्षि वाल्मीकि जयंती के उपलक्ष्य में शोभायात्रा निकाली गई। इसका शुभारंभ नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी रागिनी वर्मा ने फीता काट कर किया। इसमें कई झांकियां आकर्षण का केंद्र रहीं। शोभायात्रा जीटी रोड पर स्थित महार्षि वाल्मीकि आश्रम से प्रारंभ होकर घिरोर तिराह, जीटी रोड, सदर बाजार, पुरानी लहसुन मंडी होती हुई महार्षि वाल्मीकि आश्रम पहुंची। इस अवसर पर अमित पाथौर, धर्मेंद्र वर्मा धम्मा, दुलारेलाल प्रेमी, अमरदीप वाल्मीकि, अजय कुशवाह, मनोज वाल्मीकि, राजीव महाजन, ओमप्रकाश गौतम, अश्वनी गुप्ता रहे।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे