Movie Review: एक्‍शन-रोमांस नहीं, जेल की जिंदगी के लिए देखें 'लखनऊ सेंट्रल'

Home›   Movie Review›   lucknow central movie review of farhan akhtar, diana penty, deepak dobriyal

रवि बुले

lucknow central movie review of farhan akhtar, diana penty, deepak dobriyal

-निर्माताः निखिल आडवाणी -निर्देशकः रंजीत तिवारी -सितारेः फरहान अख्तर, दीपक डोबरियाल, इमानुल हक, राजेश शर्मा, गिप्पी ग्रेवाल, डायना पेंटी, रोनित रॉय रेटिंग *1/2 जब लखनऊ के सेंट्रल जेल में बंद कुछ कैदियों को बैंड बना कर 15 अगस्त पर परफॉर्म करने का मौका मिलता है तो वे उसकी आड़ में भागने का प्लान बनाते हैं। यह इस फिल्म की तरह ही फ्लॉप आइडिया साबित होता है। कहानी में यहां कोई दम नहीं है। कुछ नयापन नहीं है। इसका एंटरटेनमेंट राइटरों और डायरेक्टर के दिमाग में ही कैद हो कर रह गया। वह उसे पर्दे पर नहीं उतार सके। फिल्म में एक्शन, रोमांस और कॉमेडी शून्य प्रतिशत है। रोमांच भी यहां नहीं है। रहा क्या? जेल की जिंदगी। मगर वह भी भयावहता का एहसास नहीं कराती। ऐसे में लखनऊ सेंट्रल देखने की कोई ठोस वजह सामने नहीं आती।
आगे पढ़ें >>

Share this article
Tags: lucknow central , lucknow central movie review , lucknow central movie rating , lucknow central movie , farhan akhtar , diana penty , deepak dobriyal ,

Also Read

बादशाहो के संगीत की कहानी, मनोज मुंतशिर की जुबानी

देखिए, दर्शकों ने दिए ‘पोस्टर ब्वॉयज’ को इतने स्टार

Movie Review: 'डैडी' में छाए रहे अर्जुन रामपाल

Movie Review: सनी और बॉबी के फैन हैं, तो ही देखें 'पोस्टर ब्वॉयज'

Most Popular

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल