वो ज़माने

Home›   Mere Alfaz›   Those Days

Thakur S

Those Days

कहां महफिल के अब वो ज़माने रहे, बिख़रे-बिख़रे से सारे तराने रहे, अपनों की गिनतियां अब सिमटने लगीं, बस नये कुछ और कुछ पुराने रहे ।। साथ बैठे थे और थे सुनाये कभी, बनके यादें लतीफे और गाने रहे, कहाँ महफिल के अब वो ज़माने रहे।। साथ जो भी थे दूरी बनाते गये, जो बेग़ाने थे अब भी बेग़ाने रहे, कहाँ महफिल के अब वो ज़माने रहे।। पीछे छूटा है यारों हसीं क़ाफिला, सारी ख़ुशियों के जिसमें ख़जाने रहे, कहां महफिल के अब वो ज़माने रहे।। - ठाकुर समीक्षा  हमें विश्वास है कि हमारे पाठक स्वरचित रचनाएं ही इस कॉलम के तहत प्रकाशित होने के लिए भेजते हैं। हमारे इस सम्मानित पाठक का भी दावा है कि यह रचना स्वरचित है।  आपकी रचनात्मकता को अमर उजाला काव्य देगा नया मुक़ाम, रचना भेजने के लिए यहां क्लिक करें। 
Share this article
Tags: ,

Most Popular

पुनीश-बंदगी ने पार की सारी हदें, अब रात 10.30 बजे से नहीं आएगा बिग बॉस

सलमान की होने वाली 'दुल्हन' कहीं ये तो नहीं, मां की बर्थडे पार्टी में दिखी झलक

Bigg Boss 11: फिजिकल होने के बारे में प्रियांक ने किया बड़ा खुलासा, बेनाफशा का झूठ आ गया सामने

Birthday केक खाकर मुलायम बोले- अखिलेश अच्छा बेटा और सरकार भी अच्छी चलाई, Exclusive तस्वीरें

अपने ही 3 बच्चों का कातिल बना बाप, चाचा ने मारी गोलियां, असली वजह आई सामने

भुवनेश्वर की जगह इस खिलाड़ी ने पाई टीम इंडिया में जगह, चयन पर खुद रह गए हैरान