भगवा परिवार को 'पद्मावती' का खटका, विरोध के स्वर हुए तेज

Home›   INDIA NEWS›   after supreme court decision on padmavati, saffron family raises protest

संजय मिश्र, नई दिल्ली

after supreme court decision on padmavati, saffron family raises protest

फिल्म पद्मावती के विरोध को सर्वोच्च न्यायालय से झटका लगने के बाद मामला भगवा परिवार को खटक गया है। मामले की सियासी गहराई को देखते हुए भगवा परिवार ने इसका विरोध तेज कर दिया है। न्यायालय के हाथ खिंचने के बाद भगवा परिवार के संगठन विश्व हिन्दू परिषद और बजरंग दल ने न सिर्फ विरोध जताया है बल्कि राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से फिल्म का प्रदर्शन रोकने की मांग की है। बताया जा रहा है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भगवा परिवार की ओर से पद्मावती का विरोध तेज होगा। अब तक चंद लोग ही इस फिल्म का विरोध कर रहे थे। मगर अब संघ के संगठनों की आवाज मुखर होगी।  पद्मावती के जरिए राजपूत मतों पर है नजर  गुजरात चुनाव के ऐन मौके पर शुरू हुए पद्मावती के विवाद को भगवा परिवार यूं ही हाथ से जाने देने के मूड में नहीं है। गुजरात चुनाव में राजपूत बिरादरी के मतों की संख्या करीब 5 प्रतिशत बताई जाती है। परंपरागत रूप से गुजरात के राजपूत कांग्रेस के समर्थक माने जाते हैं। भाजपा के खिलाफ पटेलों की नाराजगी को देखते हुए भगवा परिवार उससे होने वाले खामियाजे की भरपाई में जुट गया है। इसलिए सीधे भाजपा के बजाय भगवा परिवार ने पद्मावती के विरोध पर रूख तेज कर दिया है। बताया जा रहा है कि संघ की ओर से आने वाले दिनों में केंद्र सरकार से भी आग्रह होगा कि वह पद्मावती फिल्म के मामले में हस्तक्षेप करे। इससे पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी कह चुकी हैं कि फिल्म सेंसर बोर्ड पद्मावती के मामले में अपना काम निष्पक्ष करेगा। लेकिन सरकार पर संघ की ओर से दबाव बढ़ने की उम्मीद है। राजपूतों का मामला केवल गुजरात चुनाव के लिए ही अहम नहीं है। बल्कि पद्मावती का भरपूर विरोध कर संघ परिवार की रणनीति राजस्थान के राजपूतों को भी साधने की है। यहां भी वसुंधरा राजे की कम हो रही चमक भाजपा और संघ के लिए चिंता का सबब बनी हुई हैं। अगले वर्ष यहां राज्य विधानसभा के चुनाव होते हैं। यही वजह है कि संघ ने अपने संगठनों को गुजरात और राजस्थान में विशेष रूप से पद्मावती के विरोध के निर्देश दिए हैं। 
आगे पढ़ें >>

पद्मावती को प्रदर्षित ना करने की मांग

Share this article
Tags: supreme court , bjp , padmavati , sanjay leela bhansali , deepika padukone ,

Also Read

सुप्रीम कोर्ट नहीं सेंसर बोर्ड करेगा दीपिका की ‘पद्मावती’ की किस्मत का फैसला

'पद्मावती' के विरोधी कृपया ध्यान दें, राजा रावल रतन सिंह पधार चुके हैं

सरकार ने खुद बताया खिलजी को पद्मावती का प्रेमी, भाजपा के वरिष्ठ एमएलए का आरोप

रानी पद्मावती के वंशज का फूटा गुस्सा, पूछे ऐसे तीखे सवाल कि तिलमिला जाएंगे भंसाली

Most Popular

बैंक से ये वाला SMS आए तो डिलीट करने की भूल न करें, वरना पैसा गंवा देंगे

BIGG BOSS 11: सपना चौधरी को एक लाख से ज्यादा वोट मिलने का खुला राज, सलमान खान भी हैरान

Bigg Boss 11: बंदगी के ऑडिशन का वीडियो लीक, खोल दिये थे लड़कों से जुड़े पर्सनल सीक्रेट

MISS WORLD 2017: इस सवाल का जवाब देकर मानुषी छिल्लर बनीं विश्व सुंदरी

हॉस्पिटल में ये काम करती थीं अर्शी खान, पसीने से लथपथ देख ब्वॉयफ्रेंड ने जड़ा था जोरदार चांटा

सेना में 'रोटी की जंग' छेड़ने वाला जवान तेज बहादुर, देखिए अब क्या कर रहा है?