एडीसी ने किया 52वीं हरियाणा राज्य खेल-कूद प्रतियोगिता का शुभारंभ

Home›   City & states›   एडीसी ने किया 52वीं हरियाणा राज्य खेल-कूद प्रतियोगिता का शुभारंभ

Rohtak Bureau

शिक्षा की तरह खेलों में भी रोजगार के सुनहरेे अवसर : एडीसीअमर उजाला ब्यूरोरेवाड़ी। अतिरिक्त उपायुक्त कैप्टन मनोज कुमार ने कहा कि हरियाणा सरकार प्रदेश को अन्य क्षेत्रों के साथ खेलों में भी आगे बढ़ाने के लिए कृतसंकल्प है। विद्यार्थियों के लिए शिक्षा की तरह खेलों में भी रोजगार के सुनहरे अवसर हैं। कैप्टन मनोज मंगलवार को राव तुलाराम स्टेडियम में तीन दिवसीय 52वीं हरियाणा राज्य खेल-कूद प्रतियोगिता का बतौर मुख्य अतिथि शुभारंभ करने उपरांत खिलाड़ियों को संबोधित कर रहे थे। इन प्रतियोगिताओं में लगभग 1800 खिलाड़ियों ने भाग लिया। उन्होंने कहा कि खिलाड़ी खेल को खेल भावना से खेलते हुए उत्कृष्ठ प्रदर्शन करें। जिला शिक्षाधिकारी धर्मबीर बल्डोदिया ने खिलाड़ियों का स्वागत किया। इस अवसर पर डीईईओ सुरेश गौरिया, डीएसओ भरत ग्रोवर, डिप्टी डीईओ चन्द्रप्रकाश, बीईओ सुभाष, संतोष देवी, सतबीर नाहडिय़ा सहित शिक्षा व खेल विभाग के अन्य अधिकारी, कर्मचारी व प्रशिक्षक उपस्थित रहे।---यह रहे परिणामपहमुकाबलों में अंबाला ने यमुनानगर को 3-0, कुरुक्षेत्र ने झज्जर को 2-0, जींद ने फतेहाबाद को 3-0, रोहतक ने चरखीदादरी को 4-0 से हराया। अंडर 19 में जींद ने फतेहाबाद को 2-0, करनाल ने रोहतक को 3-0, फरीदाबाद ने रेवाड़ी को 1-0 एवं हिसार ने पंचकूला को 1-0 से हराया। इसी तरह नेटबॉल अंडर 17 में अंबाला ने करनाल को 6-0, रेवाड़ी ने महेंद्रगढ़ को 14-05, झज्जर ने सोनीपत को 09-07, फतेहाबाद ने कैथल को 08-03, पानीपत ने रोहतक को 09-12 एवं फरीदाबाद ने पंचकूला को 07-03 से हराया। वहीं अंडर 19 में पानीपत ने झज्जर को 13-12, हिसार ने महेंद्रगढ़ को 10-00, रोहतक ने पंचकूला को 07-00 एवं जींद ने फतेहाबाद को 14-05 से हराया।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे