विद्युत निगम कर्मचारियों के खिलाफ ढाणी गोपाल के लोगों में फूटा गुस्सा

Home›   City & states›   विद्युत निगम कर्मचारियों के खिलाफ ढाणी गोपाल के लोगों में फूटा गुस्सा

Rohtak Bureau

विद्युत निगम कर्मचारियों के खिलाफ ढाणी गोपाल के लोगों में फूटा गुस्सा अमर उजाला ब्यूरो भूना। ढाणी गोपाल में विद्युत निगम के अधिकारियों व कर्मचारियों के खिलाफ वीरवार को ढाणी गोपाल के सैंकड़ों लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने कहा कि जब तक दलित महिला के घर में घुसने वाले बिजली कर्मचारियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज नहीं होता, तब तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि अगर पुलिस ने बिजली निगम के कर्मचारियों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज नहीं की गई तो सिरसा-चंडीगढ़ रोड पर जाम लगाया जाएगा। इस दौरान किसी भी अप्रिय घटना होगी तो उसके लिए विद्युत निगम व पुलिस प्रशासन जिम्मेदार होगा। आंदोलन की रूप रेखा तैयार करने के साथ साथ ग्रामीणों ने एक संघर्ष समिति का भी गठन किया है। क्या है मामला गांव ढाणी गोपाल में 25 सितंबर की देर सांय को विद्युत निगम की टीम ने बिजली चोरो के खिलाफ अभियान चलाया था। इसी अभियान में विद्युत निगम की टीम एक दलित महिला के घर में घुस गई, जहां पर उपरोक्त महिला स्नान कर रही थी। महिला ने टीम के कर्मचारियों को देखकर शोर मचा दिया। मगर टीम में शामिल कर्मचारी महिला के घर ही चुपचाप खड़े रहे। लेकिन महिला के विरोध के कारण आसपास के पड़ोस के लोग भारी संख्या में एकत्रित हो गए, और विद्युत कर्मचारियों के साथ मारपीट की। एसएचओ विक्रमजीत सिंह भादू ने मौके पर पहुंचकर विद्युत टीम को ग्रामीणों के बीच से निकालकर भूना ले आए। थाने में एक-दूसरे के खिलाफ शिकायत दी गई थी, मगर अभी तक जांच चल रही है। ढाणी गोपाल के लोगों का आरोप है कि विद्युत कर्मचारियों पर दलित महिला के साथ दुर्व्यवहार, जाति सूचक गाली देने व नारी सम्मान को ठेस पहुंचाने का मामला दर्ज किया जाना चाहिए। आज हुई बैठक गांव ढाणी गोपाल में सैकड़ों लोगों की बैठक हुई, जिसमें निगम कर्मचारियों के विरुद्ध जमकर आरपार की लड़ाई लड़ने का फैसला लिया गया है। बैठक में संबोधित करते हुए एडवोकेट राजकुमार गोदारा, रामकुमार शर्मा, धर्मबीर गोदारा, पूर्व सरपंच निहाल सिंह, सुरेश बुरड़क, कृष्ण भिडासरा, राजेश गोदारा, रामनिवास सिहाग, चंद्रभान कड़वासरा, जगदीश फगड़िया व राजेश गोदारा आदि ने बताया कि गत सप्ताह विद्युत निगम के कनिष्ठ अभियंता निहाल सिंह, अजीत सिंह, फोरमैन शमशेर सिंह व 2-3 अन्य कर्मचारियों ने गांव ढाणी गोपाल में बिजली चेकिंग के नाम पर काफी उत्पात मचाया। रोषित लोगों का कहना है कि बार-बार शिकायत करने बाद भी जब निगम के कर्मचारी अपनी हरकतों से बाज नहीं आए तो ग्रामीण महिलाओं ने मामले की शिकायत भूना पुलिस में दी। जिस पर 4 दिन बीत जाने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जिसको लेकर ग्रामीणों में रोष पाया जा रहा है। ग्रामीणों का आरोप है कि ये निगम कर्मचारी सरकार की गलत नीतियों के कारण 10 प्रतिशत के लालच में बेवजह लोगों को जुर्माना ठोक कर अपना कमीशन जुटाने में लगी हुई है। सरकार ने इन्हें खुली छूट दे दी है, इसलिए भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिल रहा है।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

कपाट बंद होने के वक्त केदारनाथ धाम में हुआ 'चमत्कार', देखकर अचंभित हुए सब

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

26 अक्टूबर को शनि बदलेंगे अपनी चाल, 3 राशि से हटेंगी शनि की तिरछी नजर

पार्टी में अमिताभ बच्चन की पोती से मिलीं रेखा, ऐश्वर्या ने कहा कुछ ऐसा जिससे बिग बी को होगा गर्व

Dhanteras 2017: भूलकर भी न खरीदें ये 5 चीजें, मालामाल की जगह हो जाएंगे कंगाल