- जिला, सब डिवीजन व स्कूल स्तर पर होगा कमेटियों का गठन

Home›   City & states›   - जिला, सब डिवीजन व स्कूल स्तर पर होगा कमेटियों का गठन

Rohtak Bureau

फोटो नंबर : 17, 18, 46, 47 व 48 - स्कूलों में स्थित टॉयलेट के बाहर भी सीसीटीवी लगाने के दिशा-निर्देश - काउंसिलिंग के जरिए बच्चों को बताया जाएगा गुड व बैड टच अमर उजाला ब्यूरो अंबाला कैंट। गुरुग्राम में स्कूली छात्र प्रद्युम्न की हत्या के बाद शिक्षा विभाग ने सुरक्षा को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं। बच्चों की सुरक्षा के लिए तीन स्तर पर सेफ्टी कमेटी का गठन करने को कहा गया है जोकि स्कूल में विद्यार्थियों की सुरक्षा एवं सुरक्षा प्रबंधों की जांच करेगी। इसके अलावा स्कूल के टॉयलेट के बाहर सीसीटीवी लगाने, बच्चों की काउंसिलिंग करने कर उन्हें गुड व बैड टच की जानकारी देने व अन्य बिंदुओं पर भी सुरक्षा में सुधार लाने को कहा गया है। विभाग ने साफ किया है कि नियमों का अनुपालन नहीं करने वाले स्कूल की मान्यता तक की जा सकती है। विभाग द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों में स्कूलों में बच्चों की सुरक्षा को लेकर कई महत्वपूर्ण निदेश दिए गए हैं। तीन स्तरीय सेफ्टी कमेटी का अलग-अलग कार्य होगा जोकि स्कूलों में सुरक्षा को सुनिश्चित करेगी। बता दें कि अभी कुछ दिन पहले सीबीएसई ने भी अलग से स्कूलों में सुरक्षा को लेकर दिशा निर्देश जारी किए थे। सबसे ऊपर डिस्ट्रिक स्कूल सेफ्टी कमेटी होगी जिसका चेयरमैन डीसी होगा। इसके अलावा कमेटी में सदस्य के तौर पर एसपी, सिविल सर्जन, निगम के ईओ या ज्वाइंट कमिश्रर, पीडब्ल्यूडी के इंजीनियर, आरटीए सचिव, डीटीपी, प्राइवेट स्कूल द्वारा नामित सदस्य, बाल विशेषज्ञ, डीईओ व डीईईओ सदस्य होंगे। कमेटी के सदस्य नियमित तौर पर स्कूलों में निरीक्षण कर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेंगे। डिस्ट्रिक स्कूल सेफ्टी कमेटी के अधीन सब डिवीजनल कमेटी होगी जोकि अपने ऊपर बनी कमेटी को जानकारियां दी। सब डिवीजनल कमेटी के चेयरमैन सब डिवीजन मजिस्ट्रेट होंगे। इसके अलावा डीएसपी या एसीपी, ब्लॉक अधिकारी या पंचायत अधिकारी, ब्लॉक शिक्षा अधिकारी, आरटीए द्वारा मनोनित सदस्य, पेरेंट्स एसोसिएशन से सदस्य व एसडीएम द्वारा मनोनित कोई अन्य सदस्य कमेटी का सदस्य होगा। कमेटी नियमित तौर पर स्कूलों का निरीक्षण कर स्कूलों में सुरक्षा के मानकों की जांच करेगी। स्कूलों में यह जांच की जाएगी कि क्या स्कूलों के नोटिस बोर्ड पर एसडीएम, बीईओ, डीईओ व पुलिस थानों के नंबर लिखे गए हैं या नहीं। सबसे नीचे स्कूल सेफ्टी कमेटी होगी जोकि हर स्कूल में बनाई जाएगी। इसमें शारीरिक शिक्षा के अध्यापक, स्कूल को-ऑर्डिनेटर व स्कूल इंचार्ज इसके सदस्य होंगे। यह नियमित तौर पर स्कूल पर नजर रखेंगे और इसकी जानकारी सब डिवीजन कमेटी को देंगे। यह दिए सुरक्षा के अन्य निर्देश - स्कूल बसों की व्यापक जांच होगी। - बसों के पूरे कागजात होंगे। - बस चालक व कंडक्टर की वेरीफिकेशन। - बस में सीसीटीवी कैमरे होंगे, हर छह महीने में उनकी काउंसिलिंग होगी। - बस में महिला अध्यापक व महिला कर्मी तैनात होगी। - स्कूलों में एंट्री व एग्जिट प्वाइंट पर सीसीटीवी कैमरे एवं टॉयलेट के गेट पर भी कैमरे लगाने होंगे। - इसके अलावा स्कूलों में विभिन्न स्थानों पर कैमरे लगाने होंगे ताकि चप्पे-चप्पे पर नजर रखी जा सके। - बच्चों को सेल्फ डिफेंस सिखाई जाएगी। - इसके अलावा अन्य कई बिंदुओं पर सुरक्षा को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। ------------------------------ मिड डे मील में कीड़े, टीम को मिली अव्यवस्थाएं प्रद्युम्न हत्याकांड के बाद जिले के स्कूलों में सुरक्षा को जांचने के लिए जिला बाल कल्याण समिति एवं बाल संरक्षण विभाग की टीम ने कैंट के स्कूलों में सुबह औचक निरीक्षण किया। इस दौरान कई स्कूलों में टीम को खामियां मिलीं। एक सरकारी स्कूल में मिड डे मील में कीड़े मिले जबकि अन्य खामियां भी पाई गई। टीम ने इस दौरान स्टाफ को कड़ी फटकार भी लगाई। बाल संरक्षण अधिकारी मेघा सिंगला, जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के सदस्य अमित जैन, जिला बाल कल्याण समिति सदस्य जगमोहन सिंह, गुरदेव सिंह मंडेर, मोहित अग्रवाल की अगुवाई में टीम ने सुबह करीब नौ बजे स्कूलों में जांच आरंभ की। टीम ने गांधी ग्राउंड के साथ राजकीय स्कूल में जांच की तो यहां पर अव्यवस्थाएं मिलीं। स्कूल में बिजली के स्विच टूटे थे व कई कमरों में तो सफाई नहीं थी। कक्षाओं में पानी के कैंपर रखे हुए थे। टीम ने बच्चों से कई सवाल भी पूछे। बिजली के बोर्ड टूटे देख प्रिंसिपल को इसे तुरंत ठीक कराने की हिदायत दी गई। टीम ने रामबाग रोड पर स्थित सरकारी स्कूल में अव्यवस्थाएं मिलीं। स्कूल में हेल्पलाइन नंबर प्रदर्शित नहीं किए गए थे जबकि मिड डे मील की चेकिंग में चावल में कीड़े पाए गए। स्कूल में सफाई व्यवस्था भी चरमराई थी और कूड़ेदान कूड़े से पूरी तरह भरे हुए थे। स्कूल में स्थित अग्निशमनयंत्र भी पुरानी तारीखों के पाए गए। इसके अलावा कई अन्य निजी एवं सरकारी स्कूलों में चेकिंग की गई। टीम सदस्यों ने बताया कि मंगलवार की गई इस चेकिंग की रिपोर्ट विभागीय अधिकारियों को सौंपी जाएगी। इससे पहले टीम ने राजकीय स्कूलों में अध्यापकों से बैठक कर उन्हें जानकारियां भी दीं।
Share this article
Tags: ,

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे