फ्लैश बैक: ध्‍यानचंद पेड़ से लकड़ी काटकर उससे खेल लेते थे हॉकी

Home›   Hockey›   dhyanchand has a lot of passion about hockey 

amarujala.com-presented by: शरद मिश्र

dhyanchand has a lot of passion about hockey PC: hindustan times

ध्यानचंद हॉकी के इस कदर दीवाने थे कि वह पेड़ से हॉकी के आकार की लकड़ी काटकर उससे खेलना शुरू कर देते थे। रात भर वह हॉकी खेलते रहते थे। उनको हॉकी के आगे कुछ याद नहीं रहता था। हॉकी के सामने वह पढ़ाई को भी भूल जाते थे। आलम यह था कि उनको वार्षिक परीक्षा में हर विषय पर जीरो अंक मिला करते ‌थे। ऑन लाइन मीडिया के अनुसार ध्यानचंद के जब यह नंबर उनके पिता देखते ‌थे तो वह उनकी पिटाई करते थे। लेकिन इसके बाद भी ध्यानचंद और हॉकी का साथ हमेशा बना रहता था।    पढ़ेंः- जानिए, सचिन तेंदुलकर कैसे हो गए भारत रत्न के लिए ध्यानचंद से आगे  ​ 1924 के पेरिस ओलंपिक से हॉकी हटा दी गई थी। इंटरनेशनल लेवल पर सुविधाएं नहीं होने की वजह से ऐसा किया गया था। बाद में 1928 में एम्सटडर्म में हॉकी को वापस लिया गया है। टीम इंडिया इसमें विजेता रही। इस ओलंपिक में ध्यानचंद ने शानदार खेल का प्रदर्शन किया। ध्यानचंद हॉकी के जितने बड़े खिलाड़ी थे आर्थिक रूप से वह उतने ही छोटे इंसान थे। तभी तो ओलंपिक से स्वर्ण पदक जीतकर लौटे तो कर्ज नहीं चुका सके। तीन हजार रुपए का बकाया चुकाए जाने के लिए उन्होंने एक नुमाइश मैच खेला। पढ़ेंः- ध्यानचंद के खेल की एक महिला थी दीवानी, कही इतनी 'बड़ी' बात अंतिम दिनों में तो ध्यानचंद को काफी आर्थिक दिक्कतों का सामना करना पड़ा। आजाद भारत की सरकार ने इसके बाद भी उनकी सुध नहीं ली। एक बार ध्यानचंद ने अपने फटे पेंट की वजह से फोटो खींचने से मना कर दिया था। वो नहीं चाहते थे कि ऐसा फोटो देखकर नई पीढ़ी हॉकी खेलना छोड़ देगी।  ध्यानचंद को भारत रत्न दिलाने के लिए हस्ताक्षर करें यहां- goo.gl/hYuwMF
Share this article
Tags: dhyanchand , hockey , olympic , gold medal , love ,

Also Read

चोटिल ध्यानचंद जब साथियों से बोले, बदले की भावना के सा‌थ मत खेलो

अमर उजाला पोलः ध्यानचंद को मिला भारत रत्न, तो सुधर सकता है देश में हॉकी का स्‍तर

जब हिटलर की नजर 'दद्दा' के अंगूठे के पास फटे जूतों पर टिक गई...

अमर उजाला पोल: ध्यानचंद को भारत रत्न देने से देश में हॉकी के स्तर में आएगा सुधार 

Most Popular

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

दिवाली पर ये हैं लक्ष्मी पूजन के तीन शुभ मुहूर्त, इस विधि से करेंगे पूजा तो हो जाएंगे मालामाल

मुफ्त में देश घूम आया इलाहाबाद का युवक, तरीका बेहद अनोखा

जानिए आखिर कैसे टूटी हनीप्रीत, कैसे कबूला जुर्म, असली सच आया सामने?

जेल में 52 दिन की जिंदगी में राम रहीम का हो गया वो हाल, पहचान नहीं पाएंगे