सेक्‍स लाइफ में तड़का लगा सकते हैं ये चिकनाई देने वाले पदार्थ

Home›   Kama Sutra›   Lubricant: top five facts

Anuradha Goel

Lubricant: top five facts

सेक्स तरल है तो बेहतर है! चिकनाई पैदा करने वाले पदार्थ (लुब्रिकेंट्स) संवेदना और संवेदनशीलता को बढाकर दर्द और आनंद के बीच का अंतर बन सकता है। तरलता बेहतर और अधिक सुरक्षितहालाँकि, चिकनाई पैदा करने वाले पदार्थ का इस्तेमाल आवश्यक नहीं है, लेकिन इसका इस्तेमाल सेक्स को बेहतर बना सकता है। हाल में किया गया एक अध्यन ये दर्शाता है कि महिलाएं लुब्रीकेंट के साथ सेक्स का अधिक आनंद लेती हैं। इतना ही नहीं, इसका प्रयोग उन महिलाओं कि मदद करता है जिन्हे योनि कि शुष्कता कि तकलीफ होती है। यदि आप बिना चिकनाई पैदा करने वाले पदार्थ का प्रयोग किये गुदा मैथुन करने कि सोच रहे हैं तो हम आपको पहले ही बता दें, ये अनुभव काफी दर्द भरा हो सकता है।साथ ही इसके इस्तेमाल से त्वचा के घर्षण से संभव इन्फेक्शन कि सम्भावना भी काम हो जाती है।लुब्रीकेंट के प्रकारलुब्रीकेंट बुनियादी रूप से 4 प्रकार के होते हैं- पानी से निर्मित,तेल से निर्मित, सिलिकॉन निर्मित और प्राकर्तिक। हर किसी के अपने फायदे और नुक्सान हैं। बाजार में उपलब्ध अधिकतर लुब्रीकेंट पानी से निर्मित होते हैं। यदि आपकी त्वचा संवेदनशील है तो पानी वाले लुब्रीकेंट आपके लिए उपयुक्त हैं।ये सुरक्षित हैं,सस्ते हैं, आसानी से साफ़ हो जाते हैं और इन्हे कंडोम के साथ भी इस्तेमाल किया जा सकता है। परन्तु कुछ पानी से निर्मित लुब्रीकेंट में ग्लिसरीन की भी कुछ मात्रा होती है जिससे महिलाओं में यीस्ट इन्फेक्शन हो सकता है।पानी से निर्मित लुब्रीकेंट को त्वचा जल्दी सोख भी लेती है इसलिए इसे फिर से लगाने की ज़रूरत भी पड़ सकती है। तेल निर्मित लुब्रीकेंट अच्छी चिकनाई प्रदान करते हैं, लेकिन इनसे कंडोम के और रबड़ निर्मित सेक्स खिलौने को नुकसान पहुँच सकता है।सिलिकॉन निर्मित लुब्रीकेंटसिलिकॉन निर्मित लुब्रीकेंट वाकई काफी चिकने होते हैं, इनमे पानी की मात्रा नहीं होती और देर तक चलते हैं लेकिन इनका नुकसान ये है कि ये सिलिकॉन निर्मित सेक्स खिलौनों को ख़राब कर सकते हैं।पूर्ण प्राकर्तिक लुब्रीकेंट बिना किसी कृत्रिम पदार्थ कि मिलावट से बनते हैं और उन लोगों के लिए उपयुक्त हैं जिन्हे एलर्जी या त्वचा के संवेदनशील होने कि समस्या हो। ऐसे कुछ प्राकर्तिक लुब्रिकेंट्स हैं घीक्वार(आलो-वेरा), विटामिन-ई तेल, कोकोआ बटर, नारियल तेल, जैतून और बादाम तेल इत्यादि।कुछ अतिरिक्त फायदेकुछ लुब्रीकेंट अतिरिक्त फायदों के साथ आते हैं। जैसे कुछ लुब्रीकेंट सेक्स कि अनुभूति को और बेहतर बना सकने में सक्षम हैं। फ्लेवर के साथ आने वाले लुब्रीकेंट मुख मैथुन को बेहतर बनाते हैं।कौनसे पदार्थ कहाँ इस्तेमाल करेंपानी और सिलिकॉन से निर्मित लुब्रीकेंट कंडोम के साथ काम में लेने के लिए सबसे उपयुक्त हैं। यदि आप शावर में सेक्स कर रहे हैं तो आपके लिए सिलिकॉन निर्मित लुब्रीकेंट सही है।तेल से निर्मित लुब्रीकेंट का प्रयोग हस्तमैथुन करते समय पुरुषों को करना चाहिए, कुछ स्वस्थ विशेषज्ञों कि राय में तेल निर्मित लुब्रीकेंट योनि या गुदा मैथुन के लिए उपयुक्त नहीं हैं क्यूंकि इनसे कई प्रकार के इन्फेक्शन होने कि सम्भावना रहती है।किन चीज़ों का ध्यान रखेंउपयोग के दौरान शरीर कुछ मात्रा में ये लुब्रीकेंट सोख सकती है, इसलिए इन पर लिखे निर्देशों को ध्यान से पढ़ें। क्यूंकि इनमे कुछ नुकसानदायक तत्व हो सकते हैं जैसे कि प्रोपाइलिन ग्लाइकोल, ग्लिसरीन और ग्लूकोस, फेनोक्सीथेनॉल, पेट्रोलियम या उससे निर्मित कुछ और पदार्थ।
Share this article
Tags: Lubricant , sex life , facts about Lubricant ,

Also Read

सेक्‍स के इन 15 नियम-कानूनों के बारे में जानते हैं आप!

ऑफिस के लोगों के साथ सेक्‍स करने की कल्‍पना करती हैं औरतें!

सेक्‍स ना करने के ये ब‍हाने क्‍या आप भी बनाते हैं?

सेक्स के दौरान पुरुषों को इन कारणों से होता है दर्द

Most Popular

सलमान खान के लिए असली 'कटप्पा' हैं शेरा, एक इशारे पर कार के आगे 8 km तक दौड़ गए थे

6000 लड़कियों ने 'बाहुबली' को शादी के लिए किया था प्रपोज, सबको ठुकरा थामा इस हीरोइन का हाथ

13 साल की उम्र में एक राजा ने बेगम अख्तर को दिया था ऐसा जख्म, हादसे के बाद बन गई थीं मां

हेमा मालिनी ने पहली बार खोला सौतेले बेटे सनी देओल के साथ संबंधों का राज

बिहार की लड़की ने प्रेमी की डिमांड पर पार की सारी हदें, दंग रह गए लोग

इतना बुरा गाकर भी लाखों कमाती हैं ढिंचैक पूजा, बिग बॉस के लिए भी ली सबसे ज्यादा फीस