आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

अंग्रेजों के खिलाफ खोला मोर्चा, डट कर किया था सामना

Bhadohi

Updated Sat, 11 Aug 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। स्वतंत्रता संग्राम की लड़ाई में जनपद के अनेक सपूतों ने अपना योगदान दिया और अंग्रेजों के खिलाफ मोर्चा खोलकर उनके हौसले को पस्त करने का कार्य किया। ऐसे क्रांतिकारियों में स्वतंत्रता संग्राम सेनानी स्व. पारसनाथ मौर्य का नाम प्रमुखता से लिया जा सकता है। श्री मौर्य में देश प्रेम की भावना कूट-कूटकर भरी थी। छात्र जीवन से ही उन्होंने भारत माता की आजादी के लिए आंदोलन में कूद पड़े थे। इसके चलते उन्हें कई बार जेल यात्राएं भी करनी पड़ी।
गोपीगंज थाना क्षेत्र के घनश्यामपुर राधास्वामी धाम निवासी स्व. पारसनाथ मौर्य का जन्म 1924 में तत्कालीन ग्राम मुखिया स्व. शिवचरन उर्फ दुखरन और माता स्व. रजवंती देवी के यहां हुआ था। स्व. पारसनाथ मौर्य की प्राथमिक शिक्षा गोपीगंज के ककराही स्कूल में हुई। देशप्रेमी और स्वाभिमानी होने के कारण छात्र जीवन से ही उन्होंने अंग्रेजों की दासता के खिलाफ आंदोलन शुरू कर दिया। जब वह सातवीं कक्षा के छात्र थे उसी दौरान देश को आजाद करने की नीयत से स्कूल के बगल में स्थित रेल पटरी को उखाड़कर सनई के खेत में गड़वा दिया। ज्ञानपुर में लवेट हाईस्कूल की पढ़ाई के दौरान जय प्रकाश नारायण के नेतृत्व में गांधी जी के अंग्रेजों भारत छोड़ो आंदोलन, करो या मरो में सक्रिय रूप से भागीदारी करने के कारण अंग्रेज अधिकारियों के निर्देश पर प्रधानाध्यापक बीएल कौल ने इन्हें विद्यालय से निष्कासित कर दिया। साथ ही तत्कालीन भदोही जिला के कलेक्टर कैप्टन विजया प्रसाद सिंह ने इन्हें फरार घोषित कर दिया। सन 1946 में सोशलिस्ट पार्टी के झंडे तले आंदोलन करने और देशद्रोह के मामले में ज्ञानपुर में 23 जुलाई 1946 को गिरफ्तार कर जेल में बंद कर दिया गया। प्रबल साक्ष्य न होने के कारण 22 नवंबर 1946 को इन्हें रिहा कर दिया गया। इसके बाद जय प्रकाश नारायण और डा. राम मनोहर लोहिया को नेता मानते हुए उनके द्वारा चलाए गए कई आंदोलनों में बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। सपा सरकार बनने परे श्री मौर्य को 28 अप्रैल 1994 को विधान परिषद सदस्य निर्वाचित किया गया। इनका निधन 28 फरवरी 2010 को हृदयगति रुक जाने के कारण हो गया।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

Browse By Tags

british front

स्पॉटलाइट

ऐसा क्या हुआ जो रियलिटी शो में इमोशनल हो गई आशा भोसले

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

जानें क्यों सपने में औरत का अपहरण होते हुए दिखना होता है अशुभ

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

कुछ लोगों को क्यों होती है ज्यादा गुदगुदी, जानें रोचक फैक्ट्स

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

VIRAL VIDEO: जन्मों का प्यासा ये कोबरा जब पीने लगा पानी तो कम पड़ गईं बोतलें

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +

अब 10वीं और 12वीं के समकक्ष माना जाएगा 'ITI' सर्टिफिकेट, बनेगा अलग बोर्ड

  • गुरुवार, 30 मार्च 2017
  • +
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top