आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

जयपुर

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

राजस्थान +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

खुला प्रवेश की मांग को लेकर जाम, पुलिस पर पथराव

Bhadohi

Updated Fri, 10 Aug 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के छात्रों ने बृहस्पतिवार को स्नातक प्रथम वर्ष में जिले के सभी विद्यार्थियों के प्रवेश की मांग को लेकर कॉलेज गेट के बाहर सड़क पर धरना प्रदर्शन कर सड़क जाम कर दिया। पुलिस ने जाम खत्म कराने के लिए छात्रों को समझाया-बुझाया, लेकिन छात्रों के पथराव करने पर पुलिस ने लाठियां भांजनी शुरू कर दी। इससे मौके पर भगदड़ मच गई। लाठी लगने से एक छात्र का सिर फूट गया। उसका उपचार जिला चिकित्सालय में कराया गया।
स्नातक प्रथम वर्ष में खुला प्रवेश की मांग को लेकर आंदोलनरत छात्रों ने नारेबाजी करते हुए कॉलेज गेट के बाहर सड़क जाम कर दिया। जाम कुछ ही देर चला था कि मौके पर पहुंचे प्रभारी कोतवाल ने छात्रों को समझा बुझाकर जाम समाप्त करने के लिए कहा। इसी बीच कुछ छात्रों ने पुलिस बल पर कुछ पत्थर के टुकड़े फेंक दिए। इससे आक्रोशित पुलिस बल ने छात्रों पर लाठियां भांजनी शुरू कर दी। प्रवेश लेने के लिए जा रहा एक छात्र पुलिस की लाठी की चपेट में आ गया। इससे उसका सिर फूट गया। इसके अलावा दर्जनभर छात्र लाठी लगने से चोटिल हुए। घायल छात्र को उपचार के लिए जिला चिकित्सालय ले जाया गया। वहां उपचार के बाद उसे छोड़ दिया गया। इस घटना के बाद छात्रों का गुस्सा और भी बढ़ गया। इस संबंध में सीओ ज्ञानपुर सुखसागर शुक्ल और प्रभारी कोतवाल कपिलदेव त्रिपाठी का कहना है कि घायल छात्र को पुलिस की लाठी नहीं लगी है। छात्रों ने जो पत्थर फेंका था, वही पत्थर उसको लगा है। उधर छात्रों का कहना है कि प्रदर्शन कर रहे छात्रों को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा गया है।

फोटो
पूर्व सांसद को लेकर दो फाड़ में बंटे छात्रनेता
एक गुट ने सांसद वापस जाओ के नारे लगाए
प्राचार्य से वार्ता के बिना पूर्व सांसद लौट गए
अमर उजाला ब्यूरो
ज्ञानपुर। काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में अनशनकारी छात्रनेताओं के आग्रह पर छात्रों की समस्याओं को लेकर प्राचार्य से वार्ता करने पहुंचे पूर्व सांसद वीरेंद्र सिंह के खिलाफ छात्रनेताओं के एक गुट ने नारेबाजी शुरू कर दी। इसके चलते पूर्व सांसद प्राचार्य से बिना वार्ता के ही वापस लौट गए। प्रदर्शनकारियों का कहना था कि वह अपनी समस्याओं का हल कराने में स्वत: सक्षम हैं।
महाविद्यालय में स्नातक प्रथम वर्ष में खुला प्रवेश सहित आठ सूत्री मांगों को लेकर महाविद्यालय के नौ छात्रनेताओं ने बुधवार से ही अनशन शुरू कर दिया था। अनशनकारी छात्रनेताओं के आग्रह पर पूर्व सांसद वीरेंद्र सिंह प्राचार्य डॉ. पन्नालाल द्विवेदी से वार्तालाप करने के लिए बृहस्पतिवार को अपराह्न डेढ़ बजे प्राचार्य कक्ष में पहुंचे। वहां एसडीएम सदर रत्नाकर मिश्र और सीओ ज्ञानपुर सुखसागर शुक्ल पहले से ही मौजूद रहे। पूर्व सांसद ने अभी बातचीत शुरू ही की थी प्राचार्य कक्ष के बाहर छात्रनेताओं के एक गुट ने पहुंचकर पूर्व सांसद वापस जाओ का नारा लगाने लगे। छात्रों के आक्रोश और महाविद्यालय का माहौल बिगड़ते देख पूर्व सांसद बिना वार्ता के ही कॉलेज के बाहर चले गए। उनके साथ भाजपा के जिला संयोजक ओमप्रकाश तिवारी, निवर्तमान जिलाध्यक्ष संतोष पांडेय, पूर्व जिलाध्यक्ष कन्हैयालाल मिश्र, वरिष्ठ भाजपा नेता शैलेंद्र दूबे, पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष रवीश पांडेय, डॉ. राकेश दूबे, पूर्व उपाध्यक्ष प्रदीप सिंह सहित बड़ी संख्या में लोग थे। पूर्व सांसद का विरोध करने वाले प्रदर्शनकारियों की अगुवाई रमेशचंद्र यादव ददा ने की। इस मौके पर राजीव शुक्ल भलाई, भानु प्रताप यादव, दीपक तिवारी, सुरेश मिश्र, मनोज यादव, धर्मेंद्र यादव, अनिल पाल, अंजनी शुक्ल, विजय त्यागी, अभिनव, सुरेंद्र यादव, जेपी पांडेय, आलोक सरोज, प्रदीप बिंद आदि थे। पूर्व सांसद के कॉलेज से लौटने के बाद उनका समर्थन करने वाले और विरोध करने वाले छात्रनेताओं में गर्मागर्म बहस शुरू हो गई। इससे छात्रनेता दो धड़ों में बंटे नजर आए। समर्थन करने वाले छात्रों ने पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष गोरेलाल पांडेय के नेतृत्व में भाजपा जिला कार्यालय पहुंचकर पूर्व सांसद से उनके खिलाफ किए गए विरोध के लिए खेद प्रकट किया और कालेज आने के लिए आभार जताया। कहा कि विरोध करने वाले लोग छात्रों का हित नहीं अपना स्वार्थ सिद्ध करना चाहते हैं।

बिना किसी नतीजे के अनशन खत्म
अधिकारी बोले शासन के आदेश के तहत ही होगा प्रवेश
अमर उजाला ब्यूरो
ज्ञानपुर। काशी नरेश राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में स्नातक प्रथम वर्ष में खुला प्रवेश की मांग को लेकर अनशन पर बैठे छात्रनेताओं ने एसडीएम सदर के आश्वासन पर गुरुवार को अपना अनशन खत्म कर दिया। इस दौरान जिला प्रशासन और महाविद्यालय प्रशासन से अनशनकारियों को कोई ठोस आश्वासन नहीं मिल सका।
खुला प्रवेश की मांग को लेकर महाविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ उपाध्यक्ष विनय कुमार उर्फ गोरेलाल पांडेय के नेतृत्व में छात्रनेता आनंद पांडेय, शिवम शुक्ल, प्रभात पांडेय, राशिद अली, आदर्श सिंह, अजय यादव, बृजेश उपाध्याय, विकास पांडेय आदि अनशन पर बैठ गए थे। अनशन दूसरे दिन भी जारी रहा। महाविद्यालय के प्राचार्य, उप जिलाधिकारी रत्नाकर मिश्र और सीओ ज्ञानपुर सुखसागर शुक्ल ने छात्रनेताओं को समझा बुझाकर उनको जूस पिलाकर अनशन को समाप्त करा दिया। अधिकारियों ने कहा कि जो भी प्रवेश होगा, वह शासन के निर्देशानुसार ही होगा। इसमें महाविद्यालय कुछ नहीं कर सकता है। शासन से जो भी निर्देश और शासनादेश जारी किया जाएगा, उसी के अनुसार स्नातक प्रथम वर्ष में प्रवेश किया जाएगा। छात्रनेताओं ने चेतावनी दी कि उनकी मांगों को पूरा करते हुए सभी छात्रों का प्रवेश नहीं लिया गया तो वह उग्र आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

घर बैठे ही अब दूर होगी टैनिंग, एक बार तो जरूर ट्राई करें ये नुस्खा

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

इसे कहते हैं जुगाड़, ट्रैक्टर को ही बना डाला स्वीमिंग पूल, देखें वीडियो

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

खूबसूरत आंखों की अगर है ख्वाहिश तो अपनाएं ये टिप्स

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

B'day Spl: तो क्या इसी स्टाइल की वजह से रणदीप करते हैं लड़कियों के दिलों पर राज!

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +

Video: बच्चे के खिलौने में घात लगाए लिपटा था इतना भयानक सांप, तभी...

  • रविवार, 20 अगस्त 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!