आपका शहर Close

चंडीगढ़+

जम्मू

दिल्ली-एनसीआर +

देहरादून

लखनऊ

शिमला

उत्तर प्रदेश +

उत्तराखंड +

जम्मू और कश्मीर +

दिल्ली +

पंजाब +

हरियाणा +

हिमाचल प्रदेश +

छत्तीसगढ़

झारखण्ड

बिहार

मध्य प्रदेश

राजस्थान

फर्जी मुठभेड़ में 28 पुलिसकर्मियों को क्लीन चिट

Bhadohi

Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
ज्ञानपुर। सात साल पहले ज्ञानपुर थाने के बड़वापुर नहर के समीप हुई फर्जी मुठभेड़ के आरोपी सभी 28 पुलिसकर्मियों को सीबीसीआईडी ने दोषमुक्त करार देते हुए मामले में फाइनल रिपोर्ट (एफआर) लगा दी है। मुठभेड़ में मारे गए बदमाश ललऊ की पत्नी पिंकी की गुहार के बाद मानवाधिकार आयोग के निर्देश पर इस मामले की जांच सीबीसीआईडी को सौंपी गई थी। बहरहाल मामला अब कोर्ट में है, जिसकी अगली तारीख चार जून मुकर्रर की गई है।
पुलिस के मुताबिक 29 मार्च 2005 को दिन में करीब सवा एक बजे बड़वापुर नहर की दक्षिणी पटरी पर घेरेबंदी कर पुलिस ने ललऊ उर्फ बुद्धसेन नाम के कथित बदमाश को इनकाउंटर में मार गिराया था। 12.50 बजे पुलिस को वायरलेस के जरिये सूचना मिली कि दो बदमाश मोटरसाइकिल लूटकर उगापुर से औराई की तरफ भाग रहे हैं। इसी सूचना पर औराई, ऊंज, गोपीगंज और ज्ञानपुर की पुलिस ने नाकेबंदी कर बदमाश को मार गिराया था। मौके से लूट की बाइक और असलहा भी बरामद हुआ था। लेकिन, पुलिस की बहादुरी की इस कहानी में तब नया मोड़ आ गया, जब बदमाश की पत्नी पिंकी ने पुलिस के उच्चाधिकारियों को पत्र देकर आरोप लगाया कि उसके पति और भाई को इलाहाबाद के अल्लापुर स्थित उसके आवास से कुछ पुलिस वालों ने रात में जबर्दस्ती उठा लिया और दूसरे दिन उसके पति को मुठभेड़ में मरा दिखाया गया। पिंकी के इस प्रार्थना पत्र पर कोई सुनवाई नहीं हुई। उसने यह शिकायती पत्र मानवाधिकार आयोग को भी भेजा। मानवाधिकार आयोग ने मामले पर संजीदगी दिखाई और आयोग के निर्देश पर अपराध शाखा लखनऊ (सीबीसीआईडी) ने पुलिस द्वारा दर्ज मुकदमे 102/05 धारा 307/411 की विवेचना की। इसमें तथाकथित मुठभेड़ को फर्जी बताते हुए ज्ञानपुर थाने में 28 पुलिसकर्मियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया गया था। ज्ञानपुर थाने में आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्या समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। इसके बाद मामला विवेचक के असीमित अधिकार क्षेत्र में चला गया। विवेचक ने एक-एक कर गवाहों के शपथ पत्र लेना शुरू किया। जिन गवाहों को सीबीसीआईडी ने पहले मृतक की पत्नी के समर्थन में दिखाया था, उन गवाहों ने एक-एक कर शपथपत्र के माध्यम से पुलिस की मुठभेड़ वाली कहानी पर मुहर लगा दी। इस दौरान विवेचक ने बड़वापुर गांव से पांच प्रत्यक्षदर्शियों का भी बयान दर्ज कर लिया। इन सभी ने पुलिस की मुठभेड़ को सही बताया। इस पर आरोपी पुलिसकर्मियों का बयान अंकित करने के बाद विवेचक ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में फाइनल रिपोर्ट प्रेषित कर दी। इसमें 28 पुलिसकर्मियों को निर्दोष बताते हुए एफआर को स्वीकृत करने की प्रार्थना की गई है।
  • कैसा लगा
Write a Comment | View Comments

स्पॉटलाइट

शराब पीकर कभी न बनवाएं टैटू, पहली बार बनवाते समय इन बातों का रखें ध्यान

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

ऋतिक हुए इस बीमारी के शिकार, इलाज के लिए पहुंचे जर्मनी

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

'बद्रीनाथ की दुल्हनिया' का 'आशिक सरंडर हुआ', नया गाना रिलीज

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

शाहरुख ने लड़कियों को दिया गोल्ड लॉकेट, आखिर क्या है राज ?

  • शनिवार, 25 फरवरी 2017
  • +

'बाहुबली-2' का मोशन पोस्टर रिलीज

  • शुक्रवार, 24 फरवरी 2017
  • +
TV
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!
Top