आपका शहर Close

पुरातात्विक धरोहरों के पास अतिक्रमण, अफसर बेखबर

Badaun

Updated Sat, 17 Nov 2012 12:00 PM IST

धरोहरों के आसपास 200 मीटर तक है बैन

सिटी रिपोर्टर
बदायूं। शहर के इकलास खां का मकबरा और अलाउद्दीन शाह की मां मखदूनजहां के मकबरों को पुरातत्व विभाग ने संरक्षित घोषित कर रखा है। इनके आसपास 200 मीटर तक नवनिर्माण और खनन ही नहीं भवनों की मरम्मत भी बिना अनुमति नहीं हो सकती, लेकिन मकबरों से सटकर कई लोगों ने मकान बना लिए। यहां लगे चेतावनी बोर्ड भी दिखावा साबित हो रहे हैं। जिला प्रशासन भी अतिक्रमणकारियों के सामने बौना साबित हो रहा है।
भारत सरकार के पुरातत्व विभाग ने 1992 में अधिसूचना जारी कर इन्हें संरक्षित क्षेत्र घोषित किया था। प्राचीन स्मारक एवं पुरातात्विक अवशेष अधिनियम 1959 के उप नियम 32 के तहत लागू कानून के आधार पर दोषियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो सकती है। इसमें तीन साल का कारावास और पांच हजार तक का जुर्माना हो सकता है, लेकिन कानून का पालन अफसर नहीं करा रहे हैं। यही कारण है कि जवाहरपुरी स्थित इकलास खां और मीरा सराय स्थित मखदूनजहां के मकबरे से सटकर तमाम लोगों ने मकान बना लिए हैं। कुछ का निर्माण चल भी रहा है। जबकि चेतावनी बोर्ड भी लगे हैं।

ऐतिहासिक भवनों के पास अतिक्रमण हटाने के आदेश पुरातत्व विभाग के नहीं मिले हैं। जिन लोगों की अपनी जमीन है वह तो निर्माण करेंगे ही, लेकिन अवैध निर्माण नहीं होने देंगे। बने कानून का भी पालन किया जाएगा।
- जमीर आलम, सिटी मजिस्ट्रेट
Comments

स्पॉटलाइट

पद्मावती का 'असली वंशज' आया सामने, 'खिलजी' के बारे में सनसनीखेज खुलासा

  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

Film Review: विद्या की ये 'डर्टी पिक्चर' नहीं, इसलिए पसंद आएगी 'तुम्हारी सुलु'

  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

पत्नी को किस कर रहा था डायरेक्टर, राजकुमार राव ने खींच ली तस्वीर, फोटो वायरल

  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

सिर्फ 'पद्मावती' ही नहीं, ये 4 फिल्में भी रही हैं रिलीज से पहले विवादों में

  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +

बेसमेंट के नीचे दफ्न था सदियों पुराना ये राज, उजागर हुआ तो...

  • शुक्रवार, 17 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!