आपका शहर Close

कांग्रेस नेता डॉ. शैलेश ने थामा सपा का दामन

Badaun

Updated Thu, 12 Jul 2012 12:00 PM IST
तीन बार लड़ी विधायकी और अब किया अलविदा
दातागंज (बदायूं)। कांग्रेस नेता डॉ. शैलेश पाठक ने सैकड़ों समर्थकों के साथ सपा का दामन थाम लिया। लखनऊ में एक सादे समारोह में वह सपा में शामिल हुए।
दातागंज विधानसभा क्षेत्र से तीन बार कांग्रेस के बैनर तले विधायक का चुनाव लड़ चुके डॉ. शैलेश ने बुधवार को कांग्रेस को अलविदा कह दिया। हालांकि तीनों ही बार उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था, जबकि उन्हें वोट हर बार अच्छा मिला। हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में उन्हें करीब 55 हजार मत प्राप्त हुए थे। कई गाड़ियों के काफिले के साथ श्री पाठक मंगलवार की रात ही लखनऊ रवाना हो गए, जिसमें करीब सात सौ से ज्यादा कार्यकर्ता सवार रहे। बकौल डॉ. पाठक उन्हें सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के सामने सदस्यता ग्रहण करनी थी लेकिन उनका स्वास्थ्य ठीक न होने पर पार्टी प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी और बदायूं सांसद धर्मेंद्र यादव ने उन्हें सदस्यता ग्रहण कराई।
0000
सपा के स्थानीय कार्यकर्ताओं ने किया विरोध
दातागंज (बदायूं)। कांग्रेस नेता डॉ. शैलेश पाठक के सपा में शामिल होने के बाद विरोध में सपा में स्थानीय स्तर पर विरोध शुरू हो गया है। सपा विधानसभा अध्यक्ष इंद्रपाल सिंह यादव एडवोकेट के आवास पर हुई बैठक में श्री पाठक को पार्टी में शामिल करने का विरोध किया गया। श्री यादव ने कहा कि जिन कार्यकर्ताओं ने पूरे मनोयोग से पार्टी का चुनाव लड़ाया था, वे खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं। शुरुआत से ही सपा का धुर विरोध करते आ रहे डॉ. शैलेश के सपा में ही शामिल करना पार्टी का कार्यकर्ता हजम नहीं कर पा रहे हैं। इस मौके पर संतोष यादव, ओमपाल कश्यप, शकील अहमद, मनोज गुप्ता, मोहम्मद अजहर, एम फिरोज, बालेश यादव, अखिलेश शर्मा, सुरेंद्र सिंह यादव सहित बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद रहे।
00000
डॉ. शैलेश के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस को झटका
दातागंज (बदायूं)। आजादी के बाद पहली बार पंडित त्रिवेणी सहाय की कोठी पर गैर कांग्रेसी झंडा लहराएगा। पांच बार विधानसभा का प्रतिनिधित्व कर चुके इस परिवार के सीधे संबंध नेहरू परिवार से थे।
मोहल्ला बुध बाजार स्थित पंडित त्रिवेणी सहाय की कोठी में इस परिवार के लोगों के साथ इंदिरा गांधी, एनडी तिवारी, कमलापति त्रिपाठी, हेमवती नंदन बहुगुणा और रीता बहुगुणा सहित कांग्रेस के कई कद्दावर नेताओं के साथ फोटो मिल जाएंगे। सोनिया गांधी, राहुल गांधी, सलमान खुर्शीद, प्रमोद तिवारी और दिग्विजय सिंह सरीखे कांग्रेस के राष्ट्रीय स्तर के नेता अभी कुछ माह पहले ही त्रिवेणी सहाय की कोठी पर आए थे।
कांग्रेस के टिकट पर वर्ष 1969 में डॉ. शैलेश पाठक के नाना त्रिवेणी सहाय विधायक चुने गए थे। वर्ष 1971 में उनकी हत्या हो गई तो राजनीतिक विरासत शैलेश की मां और त्रिवेणी सहाय की इकलौती संतान संतोष कुमारी पाठक ने संभाली। कांग्रेस के बैनर तले वह क्षेत्र से चार बार विधायक चुनी गईं। बाद में उनकी शैलेश पाठक ने राजनीतिक विरासत का जिम्मा उठाया लेकिन तीन चुनाव लड़ने के बावजूद उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई। शैलेश के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस को तगड़ा झटका लगा है।
Comments

Browse By Tags

congress leader

स्पॉटलाइट

Special: पहले से तय है बिग बॉस की स्क्रिप्ट, सामने आए 3 फाइनिस्ट के नाम लेकिन जीतेगा कोई चौथा

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

एक रिकॉर्ड तोड़ने जा रही है 'रेस 3', सलमान बिग बॉस में करवाएंगे बॉबी देओल की एंट्री

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

मिलिये अध्ययन सुमन की नई गर्लफ्रेंड से, बताया कंगना रनौत से रिश्ते का सच

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

मां ने बेटी को प्रेग्नेंसी टेस्ट करते पकड़ा, उसके बाद जो हुआ वो इस वीडियो में देखें

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +

Bigg Boss के घर में हिना खान ने खोला ऐसा राज, जानकर रह जाएंगे सन्न

  • शुक्रवार, 24 नवंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!